मेहनत की कमाई को तो बेच रहे, धनकुबेर नहीं होने से खरीदार कर रहे हाथ खड़े

कुंवारती में कृषि उपज मण्डी की शुरुआत हुए एक वर्ष से अधिक का समय हो गया,

By: Narendra Agarwal

Published: 10 Jan 2019, 06:30 PM IST

Bundi, Bundi, Rajasthan, India

रामगंजबालाजी. कुंवारती में कृषि उपज मण्डी की शुरुआत हुए एक वर्ष से अधिक का समय हो गया, लेकिन बैंक शाखा नहीं खुलने से व्यापारियों व किसानों को लेनदेन के लिए रोजाना दस किलोमीटर का चक्कर लगाना पड़ रहा है।
कुंवारती कृषि उपज मण्डी में मण्डी समिति ने दो मंजिल का बैंक भवन मण्डी उदï्घाटन के समय तैयार करवा दिया था। मण्डी में कारोबारियों के लेनदेन के लिए बैंक ऑफ बड़ौदा व एसबीआई की शाखाएं खोलने का प्रस्ताव बैंकों से मांग थे। बैंक ऑफ बड़ौदा ने मण्डी कमेटी से बैंक भवन किराया व अन्य सुविधाओं के प्रस्ताव मांगे थे। कमेटी ने बैंक प्रबंधक को भवन किराया सहित सभी सुविधाओं का प्रस्ताव दे दिया था, लेकिन बैंक द्वारा एक वर्ष बाद भी स्पष्ट जवाब नहीं दिया गया। ऐसे में मण्डी में बैंक शाखा नहीं खुल सकी।
मण्डी के व्यापारियों को लेनदेन के लिए रोजाना दस किलोमीटर चलकर बूंदी पहुंचना पड़ रहा है। आढ़तियां संघ के अध्यक्ष हनुमान माहेïश्वरी ने बताया कि मण्डी में रोजाना करोड़ों रुपए का लेनदेन होता है। शाखा नहीं खुलने से सभी वर्ग के लोग जोखिम लेकर रोजाना बूंदी के बैंकों से पैसा लाकर किसानों को देते है।
कुंवारती की शाखा करनी थी शिफ्ट
कुंवारती गांव में संचालित बैंक ऑफ बड़ौदा की शाखा मण्डी में शिफ्ट की जानी थी। बैंक प्रबंधक ने यहां की शाखा खोलने के प्रस्ताव मण्डी कमेटी को दिए थे। कमेटी ने भवन किराया अधिक होने के चलते मामला उच्च स्तर पर बैंक अधिकारियों तक पहुंचाया, लेकिन एक वर्ष बाद निर्णय नहीं हो पाया।
उधर इस माममले में मण्डी सचिव एम.एल. जाट ने बताया कि बैंक ऑफ बड़ौदा ने बैंक भवन का किराया कम करके शाखा खोलने की सहमति जताई है। उस पर विचार किया जाएगा।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned