शहर के आबादी क्षेत्र में सूने घरों को बना रहे थे निशाना, दो शातिर बदमाश गिरफ्तार कई वारदात कबूली

सदर थाना क्षेत्र के सूने मकानों में चोरी की वारदात को अंजाम देने वाली गैंग शुक्रवार को पुलिस के हाथ लग गई।

By: pankaj joshi

Published: 18 May 2019, 11:48 AM IST

बूंदी. सदर थाना क्षेत्र के सूने मकानों में चोरी की वारदात को अंजाम देने वाली गैंग शुक्रवार को पुलिस के हाथ लग गई।पुलिस ने गैंग के दो शातिर बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया।वहीं गैंग के एक अन्य सदस्य की तलाश शुरू कर दी।
जानकारी के अनुसार सदर थाना क्षेत्र के बीबनवां रोड, माटूंदा रोड व नैनवां रोड पर बीते एक माह से सूने मकानों के ताले तोडक़र चोरी करने वाली गैंग सक्रिय थी। गैंग में शामिल लोग इन इलाकों में सूना मकान पाकर उसमें ताला तोडक़र नकदी और आभूषणों पर हाथ साफ करके फरार हो रहे थे। ऐसे में क्षेत्र में बढ़ती चोरी की घटना को रोकने के लिए पुलिस अधीक्षक ममता गुप्ता के निर्देश पर सादावर्दी में सदर थाने की विशेष टीम गठित की गई। जिसमें टीम के सदस्यों ने एक माह तक उक्त इलाके में रहने वाले व वारदात को अंजाम देने वाले को चिह्नित किया। वारदात में लिप्त दो आरोपी जीवणपुरा हाल पावर हाऊस कॉलोनी देई निवासी अनिल मीणा (२४) व गुढ़ादेवजी (नैनवां) निवासी शिवशंकर उर्फ बुद्धिप्रकाश उर्फ शिवा चौपदार (२१) को गिरफ्तार कर लिया। इनकी गैंग का अभी एक और सदस्य बताया।
बूंदी का जानकार है गैंग का मुख्य आरोपी
मुख्य शातिर आरोपी अनिल बूंदी का जानकार है। यहां अलग-अलग कमरे बदल कर उसने कक्षा ९ से १२वीं तक की पढ़ाई की। वर्तमान में देवपुरा रोड पर ई-मित्र व फोटोस्टेट की दुकान पार्टनशीप में चला रहा था। इसी की आड़ में सूने मकानों की रैकी कर चोरी की वारदात को अंजाम दे रहा था। जो किराये के मकान में रामाकृष्णा कॉलोनी गैस गौदाम के सामने रह रहा था। आरोपी सूने मकान में सिर्फ नकदी व सोने-चांदी के आभूषण ही चुराते थे।
बंद कमरे में बनाते थे योजना
वारदात को अंजाम देने के लिए गैंग का मुख्य आरोपी अपने अन्य साथियों को अपने घर पर बुलाता था और बंद कमरे में वारदात को अंजाम देने की योजना बनाते थे। वारदात में लिप्त अन्य साथी नैनवां व देई के हैं। वारदात में शामिल आरोपी शिवशंकर पूर्व में मुख्य आरोपी अनिल के साथ देई में कोचिंग में पढ़ता था। दोनों आरोपी सदर थाना व देई में पूर्व में हुई चोरी में भी लिप्त हैं।
प्रमोद की रही सराहनीय भूमिका
सदर थानाधिकारी अमर सिंह ने बताया कि गैंग का पर्दाफाश करने में विशेष टीम में महत्वपूर्ण भूमिका सदर थाने में कार्यरत कांस्टेबल प्रमोद गुर्जर की रही। प्रमोद ने बीते एक माह तक घटना वाले क्षेत्र में घूमकर अपराधियों को चिह्नित किया।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned