बूंदी. कजली तीज मेला मंच पर मंगलवार की रात बीआर प्रोडक्शन मुम्बई के स्टार कलाकारों ने अपनी प्रस्तुतियों पर दर्शकों को खूब नचाया। शुरुआत ‘देवा ओ देवा गणपति देवा...’ से हुई। जिसमें दिल्ली और भोपाल से आए कलाकारों ने प्रस्तुति दी। स्टार कलाकार मूनदास ने दर्शकों को खूब नचाया।
‘मेरे माहिया, सनम हो गया...’, ‘कमली-कमली...’ जैसे रीमिक्स गीतों पर प्रस्तुति दी। एलबम सिंगर कामिनी ठाकुर ने ‘दिल प्यार का दीवाना...’, ‘जवानी जानेमन हसीन दिनरुबा...’ गीत सुनाया। शरमिष्ठा की प्रस्तुति यहां सभी के दिल को छू गई।
मंच पर फायर एक्ट की प्रस्तुति पर दर्शकों ने कई रोमांचक नजारे देखे। ‘घूमर-घूमर घूमे रहे...’, ‘लेला ओ लेला...’, ‘सारा जमाना हसीनों का दिवाना...’ जैसे गीतों पर भी नृत्य प्रस्तुतियां हुई। गायक मुकेश शर्मा ने ‘तेरे जैसा यार कहां...’, ‘ये मेरे दोस्त लौट के आजा...’ गीतों की प्रस्तुति दी।
मेले हमारी संस्कृति
मुख्य अतिथि जिला कलक्टर महेशचंद्र शर्मा ने कहा कि तीज का अपना इतिहास रहा है। मेले हमारी संस्कृति हैं। अध्यक्षता पुलिस उपअधीक्षक समदर सिंह ने की। विशिष्ट अतिथि जिला कलक्टर की पत्नी सरीता शर्मा रही।
सभापति महावीर मोदी, आयुक्त पंकज मंगल, पार्षद योगेन्द्र जैन, रमेश हाड़ा, राजेश शेरगढिय़ा, जावेद अख्तर, संजय भूटानी, महावीर खंगार, कर्णशंकर, मेला प्रवक्ता अभिषेक जैन ने अतिथियों का स्वागत किया। संचालन राजकुमार दाधीच ने किया।
समापन आज
पुराने कृषि उपज मंडी परिसर में चल रहे पन्द्रह दिवसीय मेले का समापन बुधवार को होगा। समापन समारोह में पुरस्कार वितरण एवं रंगारंग कार्यक्रम होगा।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned