स्वच्छ सर्वेक्षण का दो अक्टूबर को खुलेगा पिटारा

स्वच्छ सर्वेक्षण का दो अक्टूबर को खुलेगा पिटारा

Nagesh Sharma | Publish: Sep, 03 2018 12:12:54 PM (IST) Bundi, Rajasthan, India

ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छ सर्वेक्षण-२०१८ का कार्य पूरा हो गया है।

बूंदी. ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छ सर्वेक्षण-२०१८ का कार्य पूरा हो गया है। दिल्ली से आई टीम ने जिले के गांंवों का सर्वे कर यहां मिले फीडबेक के आधार पर अपनी रिपोर्ट ऑनलाइन भेज दी है। अब २ अक्टूबर को पता चलेगा कि जिले की रेकिंग क्या है और कितना साफ है। सर्वेक्षण के तहत जिले के १० गांवों का चयन किया गया है।
टीम ने जिले के गांवों का निरीक्षण कर व्यक्तिगत व सार्वजनिक शौचालय की वस्तुस्थिति को देखा। टीम ने यह देखा कि जिन शौचालय का कागजों में निर्माण हुआ है वहां पर हकीकत में शौचालय बने हैं या नहीं। टीम ने १०० अंकों के आधार पर अलग-अलग स्थिति के नंबर दिए। एक माह तक चला सर्वेक्षण ३१ अगस्त को पूरा हो गया है। टीम ने अपनी रिपोर्ट पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय भारत सरकार को भेज दी है।
ग्रामीणों से की चर्चा
टीम ने लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने के लिए ऑनलाइन मोबाइल एप से भी फीडबेक लिया। टीम ने सार्वजनिक जगह पर बने शौचालय की साफ-सफाई, हाट बाजार, विद्यालयों की स्थिति आदि का निरीक्षण कर ग्रामीणों से स्वच्छ सर्वेक्षण के बारे में चर्चा की।
इन गांवों का हुआ चयन
स्वच्छ सर्वेक्षण में जिले के १० गांवों को चयनित कर लिया गया है। जिसमें हिडोली पंचायत समिति के पानीढाल, कालाभाटा, धोवडा, धाबाईयों का नयागांव, नठावा, बूंदी पंचायत समिति का मंडावरी व रूपनगर, तालेड़ा का सप्तिजा, के.पाटन का बगली व नैनवां का लिलदा का चयन किया गया है।
१० हजार लोगों ने दिया फीडबैक
टीम ने सिटीजन फीडबैक के लिए ग्रामीणों को स्वच्छता सर्वेक्षण संबंध के बारे में जानकारी दी। जिला कलक्टर ने सभी को स्वच्छता सर्वेक्षण में मोबाइल एप के माध्यम से जागरूक करने के निर्देश दिए थे। जिसके चलते जिले में मोबाइल एप से १० हजार से अधिक लोगों ने फीडबेक दिया।
& जिले में लोगों ने मोबाइल एप के माध्यम से फीडबेक दिया है। इसका सरकार स्तर पर विश्लेषण किया जाएगा। मोबाइल एप के जरिए करीब १० हजार लोगों ने फीडबेक दिया है।
मुरलीधर प्रतिहार, मुख्य कार्यकारी अधिकारी, बूंदी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned