हाइवे पर मवेशियों पर जमावड़ा, हर कदम पर मौत का डर

अगर आप हाई-वे पर फर्राटे भर रहे हैं, तो ‘सावधान’ हो जाईए। बारिश का सीजन शुरू हो गया

By: Nagesh Sharma

Published: 20 Jul 2018, 12:20 PM IST

बूंदी. तालेड़ा. रामगंजबालाजी. अगर आप हाई-वे पर फर्राटे भर रहे हैं, तो ‘सावधान’ हो जाईए। बारिश का सीजन शुरू हो गया और हर कदम पर मवेशियों ने हाई-वे पर ढेरा जमा लिया। जारा चूके तो हर कदम पर दुर्घटना इंतजार कर रही है। बुधवार को हाई-वे 52 पर कोटा-बूंदी के बीच इन्हीं मवेशियों से बचने के दौरान तीन जनों की जान चली गई। बीते वर्ष भी कई वाहन चालक काल का ग्रास बने। बावजूद इसके जिम्मेदारों ने चुप्पी साध रखी है। जानकार सूत्रों ने बताया हाईवे पर विचरण करते इन जानवरों से कई वाहन चालक टकराकर चोटिल हो रहे हैं।

जिम्मेदार नहीं गंभीर
पशुओं से हाईवे पर हो रही परेशानी को लेकर प्रशासन कतई गंभीर नहीं है। प्रशासन की अनदेखी के चलते सडक़ किनारे घूमते पशुओं की संख्या दिनोंदिन बढ़ती जा रही है। पशुपालकों ने इन्हें खुला छोड़ दिया है। जिन्हें कोई नहीं टोक रहा है।

नियमों की खुली अवमानना
राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण के बाद नियमानुसार टोल नाका शुरू कर देत हंै। वाहन चालकों से टोल वसूली शुरू कर देते हैं, लेकिन राष्ट्रीय राजमार्ग प्रधिकरण द्वारा वाहन को दुर्घटना से बचाने के सुरक्षा के उपाय भी करने की जिम्मेदारी होती है। राष्ट्रीय राजमार्ग पर लगातार होने वाली दुर्घटनाओं की कोई चिंता नहीं है। जबकि राजमार्ग पर वाहन को दुर्घटना से बचाने की सुरक्षा की जिम्मेदारी भी है।

टोल अधिकारियों पर सुरक्षा का जिम्मा
वाहन चालक टोल नाका पर टोल देने के साथ ही राष्ट्रीय राजमार्ग पर दुर्घटना की संभावना पैदा करने पर शीघ्र समाधान करना होता है। इसी सुरक्षा उपलब्ध कराने की एवज में वाहन चालक टोल देता है, लेकिन वसूली के अलावा अपनी जिम्मेदारी नहीं समझ पा रहे हैं। फोरलेन से मवेशियों को हटाने व अवैध कट को बंद करने को लेकर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा।

अवैध कट भी दे रहे दर्द
हाईवे पर अवैध रूप से निकल रहे कट भी दुर्घटना को आमंत्रण दे रहे हैं। कई मर्तबा हाईवे पर फर्राटे से आ रहे वाहन चालक के सामने कट से निकल कर आवारा मवेशी आ जाते हैं। ऐसे में वाहन चालक के अचानक ब्रेक नहीं लगने से दुर्घटना का शिकार हो जाता है।

चूके तो...
राजमार्ग पर शाम ढलने के साथ ही रेलवे तिराहे, रामगंजबालाजी बायपास, मांगली नदी, नमाना रोड, गुमानपुरा काटा, घोड़ा पछाड़, बरूंधन तिराहे, तालेड़ा बायपास पर आवारा पशुओं के झुंड आकर रातभर बैठने लगे हैं। यहां कईबार मवेशियों के लडऩे के चलते वाहन चालक दुर्घटना का शिकार हो चुके।बुधवार शाम जरखोदा गांव के निकट सडक़ पर अचानक मवेशी आने से बचने के दौरान बाइक सवार तीन युवकों को ट्रक ने कुचल दिया। गुरुवार को भी रामगंजबालाजी फोरलेन बायपास पर अचानक मवेशियों के लडऩे के दौरान रोडवेज बस का चालक संतुलन खो बैठा, लेकिन सडक़ पर अन्य कोई वाहन नहीं होने से दुर्घटना होने से बच गई।


आंखें रही नम, परिजनों को मिला गम
तालेड़ा. जरखोदा के पास राष्ट्रीय राजमार्ग 52 पर दुर्घटना में तीन युवकों की दर्दनाक मौत से गुरुवार को दो गांवों में माहौल गमगीन रहा। पुलिस ने तालेड़ा अस्पताल की मोर्चरी में पोस्टमार्टम करवाकर शवों को परिजनों के सुपुर्द कर दिया। पुलिस ने बताया कि गुमानपुरा कांटा निवासी आकाश मेघवाल, रवि उर्फ पिंटू मेघवाल तथा सरस्वती का खेड़ा निवासी गिरिराज मेघवाल बाइक से गांव जा रहे थे।
जरखोदा के पास मवेशी को बचाने के प्रयास में उनकी बाइक फिसल गई, जिससे तीनों नीचे गिर गए। पीछे से आ रहे ट्रक ने तीनों ने कुचल दिया, जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई थी। तीनों के शवों का गुरुवार को पोस्टमार्टम हुआ। सडक़ दुर्घटना में तीन युवाओं की मौत होने से गांव के लोगों व परिजनों में शोक की लहर छा गई। लोगों ने गहरी संवेदना प्रकट करते हुए परिजनों को सांत्वना दी।

 

Show More
Nagesh Sharma Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned