सब कुछ जल गया सा’ब, खाना तक नहीं मिला

आग लगने से तीन जने झुलसे, 6 माह का बच्चा गंभीर

By: Abhishek ojha

Published: 08 Apr 2021, 07:58 PM IST

नोताड़ा. क्षेत्र के रैबारपुरा ग्राम पंचायत के पचीपला गांव में बुधवार देर शाम को हुई आगजनी की घटना से तीन जने झुलस गए। जिसमें एक 6 माह के बच्चे की हालत गम्भीर बताई जा रही है। आगजनी की घटना से पीडि़त परिवार का सारा सामान जल गया। बाबूलाल कहार करीब दस वर्ष से अपने गांव से पांच किमी की दूरी पर स्थित मेज नदी के किनारे खेत में टापरी बनाकर रह रहा था। यहां पर खेती कर जीवन यापन कर रहा था। बाबूलाल ने बताया कि वह परिवार के साथ खेत में गेहूं की कटाई कर रहा था। बाबूलाल की पुत्री होली पर पीहर आई थी। उसका 6 माह का लडक़ा टपरी में झुले पर सो रहा था। बाबूलाल की मां रामजानकी बच्चे के साथ ही थी। इस दौरान शाम 4.30 बजे के आसपास अचानक टपरी से आग की लपटे उठती नजर आई। यह मंजर देखकर कर बड़ा बेटा लटूर कहार बच्चे और दादी को बाहर निकालने दौड़ा तो वह भी आग में झुलस गया। सूचना पर खेतों में काम करने वाले दौडकऱ पहुंचे और एम्बुलेंस को सूचना दी। जहां से कापरेन अस्पताल ले जाया गया। वहां पर प्राथमिक उपचार के बाद कोटा रैफर कर दिया गया।
आग लगने से यह हुआ नुकसान
कुछ दिनों पहले फसल व सब्जी बेचकर अक्षय तृतीया पर कर्ज चुकाने के लिए एकत्रित कर रखी करीब डेढ़ लाख रुपए की नकदी, एक बाइक, तीन क्विंटल चने, दो क्विंटल सरसों, पांच क्विंटल गेहंू और बेचने के लिए रखी सब्जियां आग में जल गई।
बिलख रही थी मोहनी
जब मोहनी बाई से घटना की जानकारी पूछी गई तो मोहनी बाई बताते हुए बिलख पड़ी और कहने लगी कि अब खाने लायक कुछ नहीं बचा साहब। बड़ी मुश्किल से पाई पाई जोड़ी थी। सबकुछ जलकर राख हो गया। पूरा परिवार रातभर रोता रहा। भोजन तक नसीब नहीं हुआ। टपरी से गांव दूर होने से गांव के लोग भी नहीं पहुंच पाए। जब सुबह लोगों को पता चला तो यहा तक पहुंचे और सरपंच ने कुछ राशन दिलवाया।

Abhishek ojha
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned