उड़द फसल में चेंपा व लट का प्रकोप

उड़द फसल में चेंपा व लट का प्रकोप

DEVENDRA DEVERA | Publish: Sep, 03 2018 08:22:01 PM (IST) Bundi, Rajasthan, India

ग्राम पंचायतों के गांवों में कम बरसात होने के चलते उड़द की फसल में चेंपा व लट का रोग लगने से किसानों की चिंता बढ़ गई है।

-किसानों में चिंता
भण्डेड़ा. ग्राम पंचायतों के गांवों में कम बरसात होने के चलते उड़द की फसल में चेंपा व लट का रोग लगने से किसानों की चिंता बढ़ गई है। ग्राम पंचायत सादेड़ा व ग्राम पंचायत मरां के एक दर्जन गांवों के किसानों ने लगभग 8 50 हजार हैक्टेयर में उड़द की फसल बोई थी। फसल में इस समय फूल फलियां आने लगी हैं। इसी के साथ चेंपा रोग लगने लगा है। रामगंज के किसान भैरवलाल गुर्जर व धनपाल माली ने बताया कि फसल में फलाव आना शुरू हुआ है, लेकिन चेंपा रोग लगने से चिंता बढ़ गई है। यह रोग क्षेत्र में कम बरसात के होने से लग रहा है। कृषि पर्यवेक्षक सुशीला नागर ने बताया कि किसान अपनी फसल को इस रोग से बचाने के लिए इमामेकटिन बेंजोएट 18 0 ग्राम प्रति हैक्टेयर के हिसाब से छिड़काव करके फसल को रोग से बचा सकते है।
गेण्डोली. गेण्डोली व फोलाई क्षेत्र के गांवों में उड़द फसल में रोग आने से काश्तकार चिन्तित है। जगन्नाथपुरा निवासी मुकेश गुर्जर, आनन्द शर्मा, टीकम गौतम, हरिशंकर प्रजापत आदि ने बताया कि उड़द फसल की पत्तियां सिकुड़कर सूख रही है। वहीं कुछ जगह पत्तियां पीली पड़ गई है। काश्तकार अपनी फसलों को इस रोग से बचाने के लिए कीटनाशकों का छिड़काव कर रहे हैं, लेकिन कोई असर नहीं हो रहा है।
आवारा श्वानों से हरिण को बचाया
गेण्डोली. करवाला की झोंपडियां गांव में बीती रात एक हरिण को आवारा श्वानों के चंगुल से बचाकर वन विभाग को सौंपा गया। रविवार देर शाम को सरपंच त्रिलोक मीणा कोड़क्या की ओर से गांव आ रहे थे। रास्ते में एक हरिण पर आवारा श्वान हमला कर रहे थे। उन्होंने श्वानों के चंगुल से घायल हरिण को बचाकर वन विभाग को सूचना दी। कुछ देर केशवरायपाटन से वनकमी मौके पर आए और घायल हरिण का अपने साथ ले गए।
लगातार बरसात से बढऩे लगी परेशानी
बड़ाखेड़ा. कस्बे सहित आस-पास के गांवों में पिछले तीन दिनों से बरसात का दौर जारी है। बरसात के कारण लोगों का घरों से निकलना मुश्किल हो गया है। लोगों का आवागमन भी बंद हो गया। लगातार बारिश से जनजीवन प्रभावित होने लगा है। मकानों में सीलन से घरों में पानी भरने लगा है। कच्चे मकानों का गिरने का खतरा बना हुआ है। वहीं किसान भी बरसात से चिंतित हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned