scriptनहरों में आज छोड़ेंगे पानी,जर्जर नहरों की मरम्मत नहीं होने से कचरे व गंदगी से अटी | Water will be released in the canals today, the dilapidated canals are filled with garbage and dirt due to lack of repair | Patrika News
बूंदी

नहरों में आज छोड़ेंगे पानी,जर्जर नहरों की मरम्मत नहीं होने से कचरे व गंदगी से अटी

नहरों में बुधवार से जलप्रवाह शुरू किया जा रहा है, लेकिन सिंचित क्षेत्र के किसानों के लिए खरीफ व रबी की फसलों को पानी पिलाने के लिए बनाई गई बायीं मुख्य नहर 6 दशक बाद भी पक्की नहीं होने से आधा पानी बह कर ड्रेनों के माध्यम से चम्बल नदी में चला जाता है।

बूंदीJul 10, 2024 / 12:06 pm

Narendra Agarwal

नहरों में आज छोड़ेंगे पानी,जर्जर नहरों की मरम्मत नहीं होने से कचरे व गंदगी से अटी

केशवरायपाटन. बाई मुख्य नहर पाटन ब्रांच के नाले के पास क्षतिग्रस्त नहर की दीवार।

केशवरायपाटन. नहरों में बुधवार से जलप्रवाह शुरू किया जा रहा है, लेकिन सिंचित क्षेत्र के किसानों के लिए खरीफ व रबी की फसलों को पानी पिलाने के लिए बनाई गई बायीं मुख्य नहर 6 दशक बाद भी पक्की नहीं होने से आधा पानी बह कर ड्रेनों के माध्यम से चम्बल नदी में चला जाता है। इस बार नहरों में सफाई कार्य शुरू ही नहीं हो पाया। नहरों की दीवारों के पत्थर पानी को आगे बढऩे से रोकते हैं।
नहरी समस्याओं के प्रति राज्य सरकार व जल संसाधन विभाग गंभीर नहीं है। जर्जर हो चुकी नहरों को क्षमता से अधिक पानी छोडऩे के बाद भी कब कहां से टूट जाए कहना मुश्किल है। नहरों की पक्की दीवारें जगह जगह टुटी हुई है। बायीं मुख्य नहर के जीर्णोद्धार का कार्य कछुआ चाल चल रहा है। सीएडी की बायीं मुख्य नहर की कापरेन व केशवरायपाटन ब्रांच जगह जगह क्षतिग्रस्त पड़ी है।
वर्ष 2012 में सरकार ने बायीं व दायीं नहरों के लिए 12 सौ 75 करोड़ रुपए स्वीकृत किए थे। लम्बे समय बाद यह राशि नहरों के जीर्णोद्धार में खर्च नहरों कर पाए हैं। नहरों में जो कार्य हुआ वह भी घटिया निर्माण किया गया। शिकायतें करने के बाद भी जांच नहीं हो पाई। नहरों व माइनरों को पक्का करना का काम गति नहीं पकड़ पा रहा है, जो कार्य हुए उनमें गुणवत्ता का अभाव है।
नहरों की समय पर साफ सफाई नहीं होने से किसानों के खेतों तक पानी पहुंचने में परेशानी आती है। जर्जर नहरों की वजह से 25 प्रतिशत पानी व्यर्थ बह जाता है। अधिकारियों को समय पर नहरों में सफाई अभियान चलाना चाहिए ताकि पानी खेतों तक पहुंच सके।
दशरथ कुमार शर्मा, महामंत्री हाड़ौती किसान यूनियन कोटा

Hindi News/ Bundi / नहरों में आज छोड़ेंगे पानी,जर्जर नहरों की मरम्मत नहीं होने से कचरे व गंदगी से अटी

ट्रेंडिंग वीडियो