Encroachment removed- प्रशासन ने दिखाई सख्ती, अतिक्रमण कर बनाया घर जेसीबी से ध्वस्त

प्रशासन की संयुक्त कार्रवाई में तोड़ा अवैध निर्माण
दूसरी ओर सुरक्षा समिति सदस्यों ने सांसद को सौंपा ज्ञापन

By: tarunendra chauhan

Published: 17 Sep 2020, 12:59 PM IST

बुरहानपुर. वन भूमि पर अतिक्रमण करने एवं उक्त कार्य में सहयोग करने वालों पर प्रशासन नकेल कसता नजर आ रहा है। मंगलवार को प्रशासन ने संयुक्त कार्रवाई कर अतिक्रमण करने वाले गेलसिंग पिता छतरसिंग का अतिक्र मित भूमि पर बना मकान तोड़ा। सूचना है कि बड़ी संख्या में बाहर से अतिक्रमणकारी यहां आकर यहा रुकते हैं।

गेलसिंग के घर से कुछ मीटर दूर ही अतिक्रमित क्षेत्र है, जहां बड़ी मात्रा में अतिक्रमणकारियों की बसाहट है। तहसीलदार सुंदरलाल ठाकुर के साथ पुलिस, वन विभाग, राजस्व, पंचायतकर्मी और कोटवार ग्राम हैदरपुर के अतिक्रमित क्षेत्र में पहुंचे। हालांकि प्रशासन की कार्रवाई की पूर्व सूचना ही गेरसिंग को लग चुकी थी, जिसके चलते वो घर से पूरा सामान, पालतु पशु, बर्तन आदि लेकर फरार हो चुका था। प्रशासन ने भी ताबड़-तोड़ जेसीबी गेलसिंग का मकान तोड़ा। तहसीलदार ने बताया कि गेलसिंग द्वारा अवैध रूप से राजस्व भूमि पर मकान बनाया गया था। पंचायत से अभिलेखो की जांच के बाद वरिष्ठ अधिकारियों के आदेशानुसार कार्रवाई हुई।

गोपनीय रिपोर्ट अनुसार संरक्षण के चलते ही हुआ अतिक्रमण
प्रशासन को मिली गोपनीय रिपोर्ट के अनुसार पूरे एरिया में अतिक्रमण संरक्षण के चलते ही हुआ है। क्षेत्र के कुछ रहवासी भी उक्त कार्य में लिप्त है। जिससे अतिक्रमणकारियों के हौसले बुलंद होते जा रहे हैं । सुरक्षा समिति के सदस्यों ने बताया कि पिछले कुछ दिनों में ही एका एक अतिक्रमणकारी क्षेत्र में दाखिल हुए हैं। उन्हें गेलसिंग जैसे कई रहवासियों ने सहयोग किया है। इसकी गोपनीय रिपोर्ट प्रशासन तक पहुंचाई गई है, जिसके मद्देनजर कार्रवाई हो रही है।

इ धर सांसद को ज्ञापन सौंपकर बताई समस्या
सुरक्षा समिति सदस्य कडूशंकर पाटील, देवा मेघवाल, संजय पठारे आदि मंगलवार को सांसद नंदकुमारसिंह चौहान से मिलने पहुंचे। उन्होंने सांसद चौहान को जंगल की स्थिति बताई। कक्ष क्रमांक 278, 279 में लगातार हो रही कटाई पर अंकुश लगाने की मांग उठाई। सुरक्षा समिति सदस्यों ने बताया कि पहले आरोपी घने जंगल में कटाई करते थे, लेकिन अब उनके हांैसले इतने बुलंद हो चुके हैं कि अब वे गांव और मुख्य सड़क से लगे जंगलों में सफाई करने लगे हैं । अब उन्हें किसी का डर नहीं है। वे खुले रूप से सफाई करने लगे हैं । अब वे दिन निकलने के बाद कटाई के लिए जंलग में जा रहे हैं। वन अमले के आने के बाद वे उन्हें घेरकर हमला कर देते हैं। कर्मचारियों के साथ झूमा-झटकी कर उन्हें जंगल से भगाने के प्रयास करते हंै। कठोर कार्रवाई नहीं हो पाने के अभाव में लगातार अतिक्रमण बढ़ रहा है।

अतिक्रमण को बढ़ावा
सदस्यों ने कहा कि क्षेत्र में पात्र रहवासियों को पट्टे दिए जा चुके हैं। शेष अपात्र आवेदकों के आवेदन निरस्त हो चुके हैं , लेकिन इसके बाद विभाग को सख्ती से अतिक्रमण खाली कराना चाहिए। ऐसे नहीं किया जाकर बार-बार पुन: अपात्र आवेदनों की जांच की जा रही है। जिससे अतिक्रमण को बढ़ावा मिल रहा है। कार्रवाई नहीं हो पाने के कारण ही सीवल में आवला प्लांटेशन की धडल्ले से कटाई की जाकर अवैध रूप से कब्जा किया जा रहा है। यहां विभाग द्वारा सफल आवला प्लांटेशन किया गया था। लेकिन अब यहां बेखौफ रूप से दिन-रात कटाई जारी है। सांसद ने समस्या सुनने के बाद शासन एवं प्रशासन स्तर पर उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया।

 

Show More
tarunendra chauhan Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned