31 मार्च तक पर्यटन स्थलों के प्रवेश पर रोक, बस और ट्रेन में भी 50 फीसदी यात्रियों की कमी

- माहाराष्ट्र से आने वाली २० में से १० बसे बंद
- सजगता

By: ranjeet pardeshi

Published: 19 Mar 2020, 12:37 PM IST

बुरहानपुर. कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए अब पर्यटन स्थलों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई। 31 मार्च के बाद ही इन्हें खोला जाएगा। रोक के बाद पर्यटन स्थलों पर सन्नाटा पसर गया, एक दिन में लगभग एक हजार के करीब पर्यटक विभिन्न धरोहरों पर पहुंचते हैं। ऐसा पहली बार हुआ जब लंबे समय के लिए रोक लगाई गई है। इधर बस और ट्रेन के यातायात पर भी भारी असर पड़ा है। ५० फीसदी तक यात्रियों में कमी आई है। महाराष्ट्र से आने वाली २० बसों में से १० तो बंद हो गई।
देश में कोरोनावायरस के प्रति बरती जा रही सजगता के क्रम में भारतीय पुरातत्व विभाग ने अपने अधीन प्रदेश के सभी मंदिरों, स्मारकों व धरोहरों को 31 मार्च तक बंद करने के आदेश जारी किए हैं। इसी के तहत बुधवार से शाही किला, असीरगढ़, कुंडी भंडारा, राजा की छतरी सहित सभी धरोहरों के प्रवेश पर रोक लगा दी है। गेट पर सूचना भी चस्पा कर दी गई है। सभी धरोहर में से केवल शाही किले पर टिकट काउंटर चलता है। इसका टिकट प्रति व्यक्ति २५ रुपए रखा है। एक दिन में यहां १५० के करीब पर्यटक आते हैं। इस लिहाज से ४ हजार के करीब का नुकसान प्रतिदिन हो रहा है। जबकि विदेशी पर्यटकों का पूरी तरह से आवागमन बंद है।

यह भी किए बंद
जिले में स्थित मैरिज गार्डन, हॉल, स्कूल, कॉलेज, कोचिंग सेंटर, सार्वजनिक पुस्तकालय, प्ले स्कूल, सार्वजनिक समारोह के साथ ही 20 से अधिक व्यक्ति उपस्थित वाली सभाएं 31 मार्च तक बंद और प्रतिबंधित की गई है।

बस संचालकों के लिए भी आदेश जारी
आरटीओ सुरेंद्र गौतम ने कहा कि बसों में यात्रा कर रहे यात्रियों को नोबल कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए बस ऑपरेटरों के लिए निर्देश जारी किए हैं।
बसों के गेट के हैंडल व सीटों के हैंड को सेनिटाइजर से निरंतर साफ करें।
बस की सीट, लोर व अन्य भागों को नियमित रूप से साफ किया जाए।
बसों में यात्रा करने वावले यात्रियों पर कंडक्टर निगरानी रखे व किसी यात्री में कोरोना वायरस के लक्षण दिखाईदे तो तत्कल प्रशासन को सूचना करें।
बसों की खिड़कियों व बर्थ पर लगे परदों को तुरंत निकलवाना सुनिश्चित करें व बसों में रात्रि कालीन सेवा के दौरान कंबल व चादर देना बंद करें।
कोरोना वायरस के संक्रमण के रोकथाम के लिए आम जन को बस स्टैंडपर लेक्स, बसों पर स्टीकर आदि के माध्यम से जागरुक करने का प्रयास करें।

बस यातायात पर यह पड़ा प्रभाव
पुष्पक बस स्टैंड पर महाराष्ट्र से आने वाली 20 बसों में से अब 10 ही आ पा रही है। अन्य रूटों पर चलने वाली बसों पर भी खासा असर पड़ा है। बस ऑपरेटर एसोसिएशन के अध्यक्ष योगेश चौकसे ने कहा कि बसों के यातायात पर भारी असर पड़ा है। 50 फीसदी तक यात्रियों की कमी हो गई। जो बसे चल भी रही है, तो यात्री न मिलने के कारण बंद करने का मन बना रहे हैं। यही हाल रेल यातायात का भी है। यहां भी 50 फीसदी तक यात्रियों की कमी आ गई है। रिजर्वेशन टिकट कैंसिल हो रहे हैं।

ranjeet pardeshi Bureau Incharge
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned