रिश्वत : एसडीएम, बाबू, लेखापाल और बाहरी युवक पर केस

- बाहरी युवक के जरिए एसडीएम और बाबू ने मांगी एक लाख की रिश्वत लोकायुक्त ने पकड़ा
. पांच लाख की मांगी थी रिश्वतए डेढ़ लाख में सौदा तय
. जमीन की शिकायत आने पर मामले को रफा दफा करने मांगे थे रुपए

By: ranjeet pardeshi

Published: 23 Sep 2021, 11:24 AM IST

बुरहानपुर. नेपानगर तहसील के एसडीएम सहित राजस्व विभाग के बाबू और बाहरी युवक को लोकायुक्त पुलिस ने डेढ़ लाख रुपए की रिश्वत मामले केस दर्ज किया है। बाहरी युवक को लोकायुक्त ने रंगेहाथ पकड़ा।
लोकायुक्त पुलिस इंदौर के डीएसपी प्रवीणसिंह बघेल ने बताया कि नितिन सेन निवासी दाहिंदा ने तीन हजार स्क्वेयरफीट का प्लॉट खरीदा था। जिसकी रजिस्ट्री की गई थी। इस मामले में एसडीएम नेपा के पास किसी ने शिकायत की। बताया कि अवैध तरीके से रजिस्ट्री करा ली है। इसके लिए नितिन को ब्लैकमेल किया जा रहा था। एसडीएम दीपक चौहान ने मामले के निराकरण के लिए कलेक्टोरेट ऑफिस में कार्यरत बाबू किशन कनेश से मिलने को कहा। जब नितिन बाबू के पास गया, उसने कहा कि गलत ढंग से नामांतरण करा लिया 420 का प्रकरण बनेगा इसमें तुम जेल जाओंगे। जेल नहीं जाना चाहते तो खर्चा पानी करना पड़ेगा। इसके लिए 5 लाख की रिश्वत मांगी गई। लेकिन बातचीत में डेढ़ लाख में निपटारा तय हुआ। रुपए तीसरी पार्टी सूर्यपाल सिंह पिता पिता सुमेर सिंह उम्र 23 वर्ष निवासी दरियापुर को देना को कहा। उस समय मोबाइल से एसडीएम से भी बात कराई। बुधवार के दिन नितिन को सुबह से रुपए के लिए फोन आ रहे थे। शाम 5 बजे वह एक लाख रुपए लेकर दर्यापुर पहुंचा। जहां रुपए सूर्यपाल को देने के बाद जब वह गिनने लगा तो लोकायुक्त पुलिस ने धरदबोचा। एसडीएम, बाबू और बाहरी युवक के विरुद्ध पुलिस ने भ्रष्टाचार अधिनियम की धारा 7 और 120बी के तहत कार्रवाई की है।

इधर लेखापाल भी रिश्वत लेते पकड़ा
खकनार में एजेके में लेखापाल को 30 हजार की रिश्वत लेते पकड़ा। उखर्डू पिता मोरुजी सावकारे 63 वर्ष जो की प्राथमिक शाला ताजनापुर के सेवानिवृत्त प्रधान पाठक है। सेवानिवृत्ति बाद जीपीएफ की राशिए अवकाश भुगतान की राशिए ग्रेच्युटी एवं पेंशन बनाना थी। इसके संबंध में बीईओ कार्यालय के लेखापाल रामचरण पटेल से सभी भुगतान को कराने का अनुरोध किया। इसके बाद रामचरण पटेल 80 हजार की रिश्वत की मांग की गई। बुधवार को रामचरण पटेल को तीस हजार की रिश्वत लेते लोकायुक्त ने पकड़ा।

 

फोटो : कार्रवाई करते हुए लोकायुक्त पुलिस।

ranjeet pardeshi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned