MP Gajab Hai: ये दारू का अड्ड़ा नहीं डिस्टिक्ट हॉस्पिटल है! नशे में धूत स्वास्थ्य कर्मी, फिर नशे में मरीजों का इलाज

मध्यप्रदेश के बरहानपुर डिस्टिक्ट हॉस्पिटल रात को अफसर-कर्मियों की कलाली बन जाता है। रात 8.30 बजे मीडिया ने शराबखोरी का बड़ा खुलासा किया।

By: ranjeet pardeshi

Published: 11 Sep 2017, 11:01 AM IST

बरहानपुर. डिस्टिक्ट हॉस्पिटल में एक बार फि र जिम्मेदार कर्मचारियों द्वारा शराबखोरी करने का मामला सामने आया है। रविवार रात 8.30 बजे प्रबंधक जोसफ पांडे, कर्मचारी उदेश शर्मा को शराब पीते हुए पकड़ा। इसकी सूचना सिविल सर्जन को दी गई। उन्होंने कर्मचारियों को मेडिकल के लिए बुलाया लेकिन वह नहीं आए।
डिस्टिक्ट हॉस्पिटल में सूत्रों के मुताबिक जोसफ पांडे, उदेश शर्मा सहित अन्य कर्मचारी जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र पंजीयन कक्ष में शराब पी रहे थे। काफ ी देर तक सभी शराब पीते रहे। अन्य कर्मचारियों ने उन्हें देखा लेकिन बड़े पदों पर होने के कारण किसी ने कुछ नहीं किया। शराबखोरी करते हुए काफ ी समय हुआ और अधिकारियों की जबान लडख़ड़ाने लगी तो डिस्टिक्ट हॉस्पिटल से लोगों ने शिकायतें करना शुरू कर दी। आपको बता दें यहां डिस्टिक्ट हॉस्पिटल में पहले भी शराबखोरी करते हुए मीडिया ने पकड़ा था। लेकिन कार्रवाई कुछ नहीं होने से इनके हौंसले बुलंद है।

कैमरा चमका तो भाग निकले अफसर-कर्मी
मौके पर मीडियाकर्मी पहुंचे। इससे पहले कुछ कर्मचारी मौके से जा चुके थे लेकिन पांडे और शर्मा शराब पीते कैमरे में कैद हो गए। वहीं कमरे में शराब की एक नहीं दो नहीं बल्कि पांच से छह बोतलें रखी हुई थी। कैमरा चमका तो सभी वहां से भाग निकले। हालांकि ये पूरी करतूत कैमरे में कैद हो गई है।

सिविल सर्जन पहुंचे, एमएलसी नहीं हुई
सिविल सर्जन डॉक्टर शकील अहमद डिस्टिक्ट हॉस्पिटल पहुंचे। उनके कहने पर भी शराब पीने वाले प्रबंधक और कर्मचारी नहीं आए। सिविल सर्जन ने जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र पंजीयन कक्ष का मौका मुआयना किया। अंदर शराब की चार बोतलें रखी पाई। एक मोबाइल भी मिला। शराब और मोबाइल को जब्त कर लिया है। प्रबंधन दोषियों पर सख्त कार्रवाई करने की बात कह रहा है। प्रबंधक जोसफ पांडे की गतिविधियां शुरू से ही संदेहास्पद रही है। डिस्टिक्ट हॉस्पिटल में प्रबंधन में लापरवाही के साथ ही शराबखोरी की शिकायतें होती रही है। करीब 6 महीने पहले भी डिस्टिक्ट हॉस्पिटल में जोसफ पांडे सहित अन्य कर्मचारी शराब पीते हुए पकड़ाए थे।

ranjeet pardeshi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned