24 की रात 12 बाजे तक बंद के आदेश, केवल जरूरी चीजे मिलेगी

- आवश्यक वस्तु छोड़कर 24 तक बाजार बंद

बुरहानपुर. कलेक्टर ने रविवार देर शाम को फिर आदेश जारी किए। कोरोना से निपटने के लिए अब 24 मार्च की रात 12 बजे तक बाजार बंद के आदेश दिए हैं। केवल आवश्यक वस्तु वाली दुकाने चालू रहेगी।

यह रहेगा चालू
मेडिकल दुकान, अस्पताल, सब्जी, किराना दुकान, दूध की डेयरी, सांची पार्लर, पेट्रोल पंप, राशन दुकान चालू रहेगी

यह रहेगा बंद
कलेक्टर ने आदेश जारी किए है कि जिले की सीमाओं में समस्त प्रकार के व्यवसायिक परिवहन बंद रहेंगे। इसमें बस सेवाएं, ट्रांसपोर्ट, आयसर, पिकअप वाहन, ऑटो रिक्शा आदि का संचालन प्रतिबंध रहेगा। इसके अलावा होटल, रेस्टोरेंट, कपड़ा बाजार, मेकेनिक, शोरूम, मॉल सभी बंद रहेंगे।
बुरहानपुर जिले में किसी भी रास्ते से किसी भी माध्यम से बाहर से आने वाले व्यक्तियों के प्रवेश को प्रतिबंधित किया है। बाहर से आने वाले व्यक्ति संबंधित थाने पर अपनी संपूर्ण जानकारी फार्म में भरकर देगा। मेडिकल दल आवश्यक जांच के बाद अनुमति दी जाएगी।


प्रशासन के यह निर्णय जो जान लेना जरूरी
३१ तक सभी ट्रेने रद्द, बसे भी नहीं चलेगी
ट्रेन : ३१ मार्च तक सभी ट्रेने रद्द कर दी गई है। स्टेशन मास्टर के मुताबिक रविवार सुबह १० बजे से रेलवे टिकट काउंटर और रिजर्वेशन काउंटर बंद कर दिए गए। रिजर्वेशन टिकट का रिफंड भी है, तो वह ३१ के बाद हो सकेगा। जो ट्रेने स्टेशन से निकल चुकी वे ही बुरहानपुर स्टेशन पर पहुंचेंगी। बुरहानपुर स्टेशन पर दिनभर में २२ ट्रेनों का स्टॉपेज होता है, रविवार के दिन केवल ६ ट्रेने रुकी, अब सोमवार से वह भी बंद हो जाएगी।
बस : कलेक्टर राजेश कुमार कौल ने आगामी आदेश तक सभी बसों के परिहवन को भी बंद करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि कोरोना से बचने के लिए अंतरराजीय और इंदौर सहित ग्राम में चलने वाली बसे नहीं चलेगी। सार्वजनिक वाहन भी पूरी तरह बंद रहेंगे। केवल शहर में ऑटो भी नहीं चलेंगे। सीमाओ पर भी सभी वाहन प्रतिबंधित है, जो निजी वाहन से लोग बुरहानपुर में आ रहे हैं, तो उनके नाम पते नोट कर जांच की जाएगी।

कोरोना ग्रस्त मरीजों को अधिसूचित करना अनिवार्य
सरकार ने सभी अस्पतालों और डॉक्टरों के लिए यह अनिवार्य किया गया है कि वे उनके पास इलाजरत कोरोना वायरस प्रभावित मरीज को अधिसूचित करें। स्वास्थ्य आयुक्त प्रतीक हजेला ने बताया कि इस मार्गदर्शिका के अनुसार सभी शासकीय और निजी अस्पताल, शासकीय स्वास्थ्य संस्थानों, रजिस्टर्ड मेडिकल ऑफिसर एवं आयुष प्रैक्टिशनर्स के लिए यह अनिवार्य होगा कि वे उनके यहां इलाजरत कोरोना वायरस प्रभावित मरीज के बारे में संबंधित डिस्ट्रिक्ट सर्विलेंस यूनिट को अधिसूचित करें। इस सिलसिले में स्वास्थ्य आयुक्त ने प्रदेश के सभी प्राईवेट मेडिकल प्रैक्टिशनर्स तथा नर्सिंग होम ऐसोसिएशन एवं अध्यक्ष इंडियन मेडिकल ऐसोसिएशन के अध्यक्षों को पत्र जारी किया है।

ranjeet pardeshi Bureau Incharge
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned