दंगा कराने की बात सुनकर भड़के उपप्रतिपक्ष नेता

- जल प्रदाय प्रभारी ने लोगों को कहा मरम्मत के लिए निगम के पास नहीं है पैसा
- इसलिए बढ़ी बात
- अधिकारी-महिलाओं में हुई जमकर बहस

By: ranjeet pardeshi

Published: 20 Jan 2018, 10:14 PM IST

बुरहानपुर. जल संकट से जूझ रहे शहर में अब लोगों का विरोध सड़क से नगर निगम तक आने लगा है। शनिवार का जल प्रभारी अधिकारी ने राजीव नगर वार्ड में पेयजल समस्या को लेकर लोगों से कहा कि निगम के पास खर्च करने के लिए पैसे नहीं है। इस बात से नाराज हुए लोगों ने नगर निगम का घेराव कर दिए। जब आयुक्त के सामने यह बात आई, तो उन्होंने जल प्रदाय प्रभारी को फटकारते हुए कहा कि पैसा तुम्हारे घर से आता है क्या, तो काम करने से मना कर रहे हैं। इसके बाद मामला और भड़क गए आखिरकार जल प्रभारी को कर्मियों ने पकड़कर एक तरफ किया।
राजीव नगर वार्ड में पाइप लाइन टूटने से पानी सप्लाय प्रभावित हुआ है। पिछले १० दिन से यह समस्या चल रही है। शनिवार सुबह जल प्रदाय प्रभारी अधिकारी रविंद्र खोडके यहां पहुंचे थे। जब स्थानीय लोगों ने उन्हें मरम्मत के लिए कहा, तो उन्होंने कहा था कि निगम के पास रुपए नहीं है। इस बात से नाराज लोग पार्षद के साथ निगम का घेराव करने पहुंचे थे। आयुक्त पवनकुमारसिंह ने अधिकारी को फटकार लगाई और मरमत कार्य शुरू कराने के निर्देश दिए। इसके बाद मामला शांत हुआ।
नगर निगम में चल रहे विवाद के बीच जल कार्य प्रभारी चेयरमेन चिंतामन महाजन ने अधिकारी खोडके को कहा कि पानी लिए तुम शहर में दंगा करवाओगे। इस बात पर से उप नेता प्रतिपक्ष अमर यादव भड़के और उन्होंने कहा कि पानी के मामले में हर बार दंगा कहां से आ रहा है। यह वर्ष चुनाव का है, इसलिए दंगे की बाते हो रही है। सत्ता में भाजपा है और भाजपा जनप्रतिनिधियों की ही बात अधिकारी नहीं सुन रहे हैं। यह संभव नहीं है। बार-बार दंगे की बात करने से लोग भड़केंगे।
काम नहीं, तो इस्तिफा दे महाजन
विवाद में उप नेता प्रतिपक्ष यादव ने कहा कि भाजपा सत्ता में होते हुए काम नहीं करा पा रही है। जल कार्य प्रभारी चेयरमेन चिंतामन महाजन की बात यही अधिकारी नहीं सुन रहे है, तो पद की गरीमा के अनुसार उन्हें इस्तिफा दे देना चाहिए। भाजपा सरकार में अधिकारी तानाशाही कर रहे हैं। इसका शिकार खुद भाजपा के जनप्रतिनिधि हो रहे हैं।
चेयरमैन बोले मैं इस्तीफा दे दूंगा
चिंतामन महाजन ने बताया कि अधिकारी रविंद्र खोडके शहर में अपनी मर्जी से निर्णय ले रहे है। इससे आए दिन विवाद की स्थिति पैदा हो रही। खोड़के सेवानिवृत्त होने वाले है, इसलिए किसी की नहीं सुनते। इसके लिए वह महापौर से चर्चा करेंगे। अगर खोडके इसी तरह काम करते रहे, तो वह एमआईसी सदस्य पद से इस्तीफा दे देंगे।

पानी की पाइप लाइन की मरमत की मांग को लेकर लोग आए थे। अधिकारी को भी समझाइश दी है। इस वर्षकम बारिश होने से समस्या सामने आ रही है। इसके निदान के लिए हम प्रयास कर रहे हैं।
- पवनकुमारसिंह, आयुक्त, नगर निगम

ranjeet pardeshi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned