छात्रावासों में हुए भ्रष्टाचार पर कागज लगाकर की लिपापोती

- पेंशन अधिकारी बोले जो कागज की कमी थी वह बाद में लगा दिए - जनसुनवाईमें शिकायत करने पर शिकायतकर्ताको जारी कर दिया निराकरण का मैसेज - 31 छात्रावासों मे

By: ranjeet pardeshi

Published: 10 Feb 2018, 01:19 PM IST

बुरहानपुर. आदिवासी क्षेत्रों के बच्चों के उत्थान के लिए चलाए जा रहे छात्रावासों में भ्रष्टाचार सामने आने के बाद अब इसमें कागज लगाकर लिपापोती की जा रही है। जबकि अधिकारियों ने मौके पर जाकर जांच की तो कईसामग्री नहीं मिली थी। प्रभारियों ने कमियों की पूर्तिकर कागज लगा दिए। इस पर परीक्षण अधिकारी ने कहा कि जांच समिति इसकी पुन: जांच करें।
आदिवासी विकास विभाग की ओर से जिले में 46 छात्रावास संचालित किए जाते हैं।इनमें कई छात्रावासों में जो सामन खरीदा गया वह पूरा नियम विरुद्ध निकला। बड़ी बात तो यह भी सामने आईहैकि जब अफसर छात्रावास में जांच करने पहुंचे तो यहां फ्रिज नया खरीदा हुआ बताया गया, जबकि अफसरों ने अंदेशा जताया हैकि यह फ्रिज पुराना है।
यह सामने आईथी लापरवाही
शिकायतकर्ताश्याम बन्नातवाला ने बताया कि जब जांच दल यहां पहुंचा तो छात्रावासों में स्टॉक पंजी में प्रविष्टियां अपूर्णपाईगई। सामग्री क्रय करने का क्रय आदेश तक प्राप्त नहीं किया। यहां तक फ्रिज खरीदी में भी भ्रष्टाचार कर लिया गया। प्रस्तुत रिपोर्ट में अफसरों ने यह भी बताया कि सामग्री के भौतिक सत्यापन के दौरान फ्रिज ३ मार्च१७ को खरीदना बताया, जबकि फ्रिज पुराना लग रहा था। कईछात्रावासों में साढ़े तीन लाख रुपए की खरीदी मौखिक आदेश पर कर ली गई, जो की नियम विरुद्ध है। इस राशि में गैस कनेक्शन, भट्टी, वाटर कूलर, कंबल चादर, तकीया, गादी कवर, खेल एवं किचन सामग्री खरीदी गई। इसपर कार्रवाईकी मांग की।
जनसुनवाईमें 30 छात्रावासों की शिकायत
इस मुद्दे को लेकर जनसुनवाईमें श्याम बन्नातवाला ने भी शिकायत की है।इसमें सीनियर आदिवासी बालक छात्रावास परेठा, अंबाड़ा, हैदरपुर, डोइफोडिय़ा, शेखापुर, कन्या छात्रावास खकनार उत्कृष्ठ, सीनियर आदिवासी बालक छात्रावास तुकईथड़, नावरा, कन्या छात्रावास नावरा, देड़तलाई, सिरपुर, कन्या छात्रावास शेखपुरा, दाहिंदा, छात्रावास नवीन धूलकोट, बालक छात्रावास बुरहानपुर, कन्या छात्रावास बुरहानपुर, बालक आश्रम सीवल, गोंद्री, उसारनी, चांदनी, दाहिंदा, पांगरी, पांढरी, अमूल्लाखुर्द, आश्रम अंग्रेजी बुरहानपुर शामिल है।
जिला पंचायत में उठा मुद्दा
जिला पंचायत की सभा में भी छात्रावासों में हुए भ्रष्टाचार का मुद्दा गर्माया। जिला पंचायत सदस्य कैलाश यावतकर ने कहा कि हमने मुद्दा उठाया था, लेकिन अब तक इस मामले में रिपोर्टप्रस्तुत नहीं की है।जल्द कार्यवाही नहीं की तो विरोध जताएंगे।
छात्रावासों से जिन कागजों की कमी थी। वह बाद में रिपोर्ट में लगा दिए।यह फाइल मुझे परीक्षण के लिए आईथी।मैंने लिख दिया कि पुन: यह जांच समिति के समक्ष रखा जाए। जो पूर्ति की गई हैसमिति उसकी जांच करें। - केएम डामर, परीक्षणकर्तापेंशन अधिकारी

ranjeet pardeshi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned