दुर्गोत्सव - मप्र में दुर्गा पूजा, विसर्जन और रावण दहन को लेकर नई गाइडलाइन जारी

गाइडलाइन का करना होगा पालन, विसर्जन के लिए दस लोगों का नियम

By: tarunendra chauhan

Published: 08 Oct 2020, 11:45 AM IST

बुरहानपुर. 17 अक्टूबर से दुर्गा पूजा की रौनक आने वाली है। जिलेवासी इन त्योहारों को मनाने के लिए उत्साहित रहते हैं। इसी उत्साह को देखते हुए प्रदेश सरकार ने दुर्गा उत्सव और दशहरा उत्सव के लिए कोरोना के दौरान ही नई गाइडलाइन जारी की है। मूर्ति विसर्जन के लिए 10 लोगों से ज्यादा नहीं जा सकेंगे। जिला प्रशासन की जिम्मेदारी रहेगी कि वे अधिक से अधिक विसर्जन स्थल चिह्नित करें, जिससे कम से कम भीड़ लगे, साथ ही कोरोना को देखते हुए चल समारोह की अनुमति भी नहीं दी जाएगी। रावण दहन के लिए भी गाइड लाइन तय हो गई है।

कलेक्टर प्रवीण सिंह ने आपदा प्रबंधन की धारा 144 में निहित शक्तियों का प्रयोग करते हुए संपूर्ण बुरहानपुर जिलें में प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किया है। उन्होंने कहा है कि जिले में विभिन्न सार्वजनिक स्थानों पर स्थापित की जाने वाली प्रतिमा की ऊंचाई पर पूर्व आदेश में उल्लेखित प्रतिबंध को समाप्त किया जाता है। प्रतिमा के लिए पंडाल का आकार अधिकतम 30/45 फीट नियत किया जाता है। झांकी निर्माताओं को यह पालन करना होगा कि संकुचित जगह के कारण श्रद्धालुओं-दर्शकों की भीड़ की स्थिति व सोशल डिस्टेंसिंग के पालन में झांकी स्थल पर भीड़ एकत्र नहीं हो। इसकी व्यवस्था आयोजकों को ही करनी होगी। मूर्ति विसर्जन संबंधित आयोजन समिति द्वारा किया जाएगा। मूर्ति को विसर्जन स्थल पर ले जाने के लिए अधिकतम 10 व्यक्तियों का समूह रहेगा व आयोजन समिति को अनिवार्यत: संबंधित अनुविभागीय अधिकारी से अनुमति लेना होगी। मूर्ति विसर्जन सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक की ताप्ती नदी के राजघाट व पीपलघाट के समीप नगर पालिक निगम द्वारा बनाए गए विशेष विसर्जन स्थल पर किया जा सकेगा, जिसमें 10 से अधिक व्यक्ति विसर्जन में शामिल नही हो सकेंगे। मूर्ति का विसर्जन चल समारोह में रूप में नहीं होगा। विसर्जन के दौरान कोई भी जुलूस, रैली, ध्वनि विस्तारक यंत्रए ढोल नगाडे इत्यादि का प्रयोग पूर्णत: प्रतिबंधित रहेागा। रात्रि में 10 बजे से सुबह 6 बजे तक लाउडस्पीकर ध्वनि विस्तारक यंत्र का उपयोग प्रतिबंधित रहेगा।

दुर्गा पूजा के लिए ये है गाइडलाइन
लोगों को फेस मास्क पहनना अनिवार्य होगा
सभी श्रद्धालुओं को सोशल डिस्टेंसिंग और सेनेटाइजेशन का भी ध्यान देना होगा
आयोजन कमेटी को ही पंडालों में सेनेटाइजर और हैंड वाश की व्यवस्था अनिवार्य रूप से करना होगा
कोरोना के माहौल में चल समारोह की अनुमति नहीं रहेगी
मूर्ति विसर्जन के लिए 10 लोगों के एक साथ आने के लिए जिला प्रशासन से अनुमति लेना होगा

रावण दहन के लिए गाइडलाइन
लोगों को फेस मास्क पहनना अनिवार्य होगा
सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा साथ ही सेनेटाइजेशन का भी ध्यान देना होगा
रावण दहन में कितने लोग शामिल होंगे इसकी परमिशन कलेक्टर से लेना होगा
25 अक्टूबर को होने वाले दशहरा कार्यक्रम के लिए प्रशासन से आवश्यक परमिशन लेना होगा।

Show More
tarunendra chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned