वीडियो जारी कर अतिक्रमणकारियों ने कहा - शासन को हमें पट्टे देना ही होगा

प्रशासन को अब तक नहीं मिल पाई बंदूक, आरोपियों की भी नहीं हो रही गिरफ्तारी

 

By: tarunendra chauhan

Updated: 13 Nov 2020, 06:42 PM IST

बुरहानपुर. 7 नवंबर को अतिक्रमण हटाने गई टास्कफोर्स पर हमला करने और शासकीय बंदूक छीनने के 5 दिन बीतने के बाद भी पुलिस की बंदूके बरामद नहीं हो पाई है। आए दिन पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारी जंगल का दौरा कर अतिक्रमणकारियों से चर्चा करने के प्रयास कर रहे हंै, लेकिन कोई हल नहीं निकल पा रहा है। इसी कड़ी में बुधवार को तहसीलदार सुंदरलाल ठाकुर और टीआई जीतेंद्र यादव जंगल में गए थे। उन्होंने अतिक्रमणकारियों से चर्चा कर बंदूक वापस लेने के प्रयास किए, लेकिन लंबे समय तक मनाने के बाद भी कोई हल नहीं निकला।

पड़ोसी गांव के कुछ रहवासी कर रहे मदद
वन सुरक्षा समिति का मानना है कि घाघरला के अलावा पड़ोसी गांव हैदरपुर और डालमहू के कुछ रहवासी अतिक्रमणकारियों की मदद कर रहे हंै, वे उन्हें जगह नहीं छोडऩे के लिए प्रेरित कर रहे हंै। सुरक्षा समिति के सदस्यों ने बताया कि दोनों गांव के कुछ रहवासी उन्हें यहां से नहीं जाने का बोल रहे हैं। वे उन्हें क्षेत्र में हो रही हलचल के बारे में सूचना देते हैं, जिससे कोई कार्रवाई होने के पहले ही उन्हें पता चल जाता है। उन्होंने कहा कि अतिक्रमणकारियों ने वापस नहीं जाने और अतिक्रमण बना रखने का भी निर्णय लिया है।

-वीडियो वायरल कर जताया रोष
अतिक्रमणकारियों ने 7 नवंबर को हुई कार्रवाई के बाद विरोध वीडियो के माध्यम से जारी किया। वे अब भी जमीन नहीं छोडऩे का बोल रहे है। उनकी ओर से जारी वीडियो में बता रहे हैं कि वे वर्षों से यहां पर रहते आ रहे हैं, लेकिन उन्हें अब तक पट्टा नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जब तक पट्टे नहीं मिलेंगे तब तक हम यहीं पर रहेंगे। प्रशासन और सरकार को हमें पट्टे देना ही होगा। वन सुरक्षा समिति के सदस्यों ने बताया कि यहां 2005 के पूर्व से प्लांटेशन किया गया है।

अतिक्रमणकारियों ने कबूली दो बंदूक पास में होने की बात
वीडियो के तहत अतिक्रमणकारियों ने यह बात भी कबूली है कि उनके पास कर्मचारियों की बंदूक है। हालांकि वे दो ही बंदूक होने की बात बोलते दिखाई दे रहे हैं। अतिक्रमणकारी अब इतने चौकन्ने हो चुके हैं कि वायरल हुए करीब 6 वीडियो में से एक में भी किसी का चेहरा नहीं दिखाई दे रहा है। वे अपनी पहचान छुपा रहे हंै। किसी भी महिला व पुरुष ने अपना चेहरा वीडियो में नही दिया।

आरोपी भी अब तक गिरफ्त से दूर
टास्कफोर्स पर हमला करने वाले अब तक 50 से अधिक आरोपी चिन्हित हो चुके हैं। वहीं कई अज्ञात आरोपियों को भी इसमें जोड़ा गया है, लेकिन अब तक किसी आरेपी की अब तक गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। कार्रवाई के दौरान करीब 30 से अधिक कर्मचारी एवं दो रेंजर गंभीर रूप से घायल हो चुके हंै। वही दूसरी ओर अब तक अतिक्रमित सेंंटर मुक्त नहीं हो पाया है। अतिक्रमणकारी लगातार जंगल काटकर जलाए गए टपरों के स्थान पर नए टपरे बनाने शुरू कर दिए हैं।

- अतिक्रमणकारियों से चर्चा चल रही है। बंदूक वापस ली जाएगी। सभी को आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ कार्रवाई होगी।
- सुंदरलाल ठाकुर, तहसीलदार

Show More
tarunendra chauhan Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned