मध्यान्ह भोजन में निकली छिपकल्ली

ranjeet pardeshi

Publish: Sep, 17 2017 01:16:20 (IST)

Burhanpur, Madhya Pradesh, India
मध्यान्ह भोजन में निकली छिपकल्ली

- छात्राओं ने खाने से किया इंकार
- अधिकारियों ने बनाया पंचनामा

बुरहानपुर. इतवारा की कन्या स्कूल में मध्यान्ह भोजन में बच्चों को जला हुआ खाना परोसा गया, तो खड़कोद की माध्यमिक स्कूल में खाने में छिपकल्ली निकली। अव्यवस्था के बाद बच्चों ने भोजन करने से ही इंकार कर दिया। इतवारा स्कूल में शिक्षकों ने अधिकारियों को शिकायत की है, तो खड़कोद स्कूल में अधिकारियों ने जांच कर पंचनामा बनाया है।
खड़कोद की शासकीय माध्यमिक शाला में बच्चों को जब खाना परोसा गया, तो एक बालिका के खाने में छिपकल्ली निकली। इसके बाद सभी ने खाना खाने से मना कर दिया। बच्चों ने कहा कि खाने से गोबर की बदबू भी आ रही है। जानकारी मिलते ही नायब तहसीलदार जीएस रावत और शिक्षा विभाग के संजय जायसवाल मौके पर पहुंचे। नायब तहसीलदार ने पंचनामा बनाया और भोजन स्थल का निरीक्षण भी किया। भोजन बनाने का कमना काफी खराब और गंदा था। इस पर शिक्षकों को लताड़ लगाते हुए व्यवस्था सुधारने और अच्छे कमरे में भोजन निर्माण करवाने के निर्देश दिए हैं।
१८० बच्चें दर्ज, ३५ बच्चों का लेते है खाना
इतवारा में नागझीरी की कन्या माध्यमिक शाला में खराब भोजन आने की यह पहली घटना नहीं है। यहां आए दिन खराब खाना आता है, इससे बच्चें खाना खाने से ही इंकार कर देते है। १८० बच्चे स्कूल में दर्ज है, लेकिन खाना सिर्फ ३५ से ४० बच्चों का ही लिया जाता है। शनिवार को भी जो भोजन स्कूल में आया उसमें रोटियां जली हुई थी और सब्जी में पानी ही पानी था। इसे देखकर बच्चों ने खाने से इंकार कर दिया।
शिक्षिका विमला त्रिवेदी ने बताया कि बच्चें मध्यान्ह भोजन का खाना नहीं खाते हैं। खराब खाना आने की कई बार शिक्षा अधिकारियों व मध्यान्ह भोजन निर्माता को शिकायते की है। लेकिन फिर भी खाने की गुणवत्ता में कोई सुधार नहीं हुआ है। खराब खाना खाने से कई बार बालिकाओं का स्वास्थ्य भी खराब हो जाता है।

खड़कोद स्कूल में खाने में छिपकल्ली मिलने की शिकायत पर जांच की गई है। पंचनामा बनाकर समूह को गुणवत्ता का ध्यान रखने के निर्देश दिए हैं। भोजन कक्ष की स्थिति खराब थी, इसे बदलने के निर्देश दिए है।
- जीएस रावत, नायब तहसीलदार

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned