देखिए कहां है तेंदुए की गांव में दहशत

पिंजरा लगा कर वन विभाग कर रहा तेंदुए के फंसने का इंतजार
-ग्रामीण अंचल में छलांग मार रहा तेंदुआ
-ग्रामीणों में दहशत, कई बार हो चुकी हमले की घटनाएं

By: ranjeet pardeshi

Published: 10 Feb 2018, 12:48 PM IST

बुरहानपुर. जिलेभर के ग्रामीण क्षेत्रों में तेंदुए की आमद अब आम हो गई है। आए दिन दिखने वाला तेंदुआ अब तक कई ग्रामीणों पर न सिर्फ हमला कर चुका हैबल्कि कई मवेशियों को अपना शिकार भी बना चुका है। लगातार दिखने वाले तेंदूए से अब ग्रामीणों में दहशत हैं और इस तेंदुए की खासियत यह है कि यह वन विभाग के अमले के अलावा सभी को दिखाई देता है। लगातार मिलती खबरों और शिकायतों के बाद वन विभाग ने एक स्थान पर पिंजरा लगाकर अपनी इतिश्री कर ली।
उल्लेखनीय हैकि नेपानगर और जैनाबाद क्षेत्र के ग्रामीण अंचल में कई बार तेंदुए के दिखने के कारण अब ग्रामीणों को मु?य रास्तों से आवागनम करने में भी डर लगने लगा है। इन दिनों लगातार तेंदूए के दिखने से ग्रामीण दहशत में है और अपने खेतों में जाने से भी डरने लगे है। बीते सप्ताह लगातार दो दिनों तक जैनाबाद क्षेत्र के तीन इमली में तेंदुए ने पहले तो सुबह एक खेत में काम कर रही महिला पर हमला किया लेकिन महिला ने चतुरता से उससे जान तो छूड़ा ली लेकिन उसके शरीर पर हमले के निशान आ गए। इसके बाद तेंदुए ने वहीं एक बकरी को अपना शिकार बनाया और ले गया। इसके बाद उसके अगले ही दिन शाम को फिर जैनाबाद के मुख्य रास्ते पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। जिसके कारण काफी देर तक आवागमन रुक गया और ग्रामीणों ने झूंड बनाकर शोर मचाया, जिसके बाद तेंदूआ गया। इस तरह की कईबार घटनाएं नेपानगर क्षेत्र के ग्रामीण अंचल में भी हो चुकी है। कुछ समय पहले भी बसाड़ फाटे के पास एक किसान के बाड़े से उसकी आंखों के सामने मवेशी को तेंदूआ घसीट कर ले गया और अपना शिकार बनाया था।
तेंदूए को देखते ही बाइक छोड़कर भागा किसान
गुरुवार को जैनाबाद क्षेत्र के किसान गणेश प्रजापति अपने खेत में पानी देकर जब घर जा रहा था तभी अचानक तेंदूआ नजर आया। तत्काल उसने बाइक छोड़कर अपनी जान बचाना उचित समझा। जैसे-तैसे उसने अपने परिजनों को फोन कर घर से बुलवाया और अपनी आपबिती बताई। लगातार हो रही इस तरह की घटनाओं के कारण अब किसान अपने खेतों में जाने तक से डरने लगे है। किसान प्रमोद प्रजापति, इमरान बैग, महेंद्र प्रजापति, नागो प्रजापति, पूनमचंद और मोहन प्रजापति ने कहा कि तेंदूए को पकडऩे के लिए वन विभाग के प्रयास नाकाफी है और यदि जल्दी ही स?ती बरत कर तेंदुआ नहीं पकड़ा गया तो कोईबड़ा और गंभीर हादसा हो सकता है।
क्या कहते है अफसर
क्षेत्र के रेंज ऑफिसर कास्डे का कहना हैकि हमें अभी तक न तो तेंदूआ दिखाईदिया और न ही उसके पगमार्क दिख रहे है लेकिन ग्रामीणों की ओर से लगातार मिल रही शिकायतों के बाद हमने तीन इमली के जंगल में पिंजरा लगाया है और उसमें मुर्गा भी छोड़ रखा है। हमारा स्टॉफ लगातार दिन-रात गश्त भी कर रहा है। अभी तक तेंदूआ पकड़ से बाहर है।

ranjeet pardeshi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned