मध्यप्रदेश उपचुनाव के 'रण' में अब 'सेठ' की एंट्री, सीएम शिवराज ने अपने भाषण में 15 बार किसे कहा 'सेठ'

चुनावी सभा में बोले सीएम शिवराज- सेठ हम भूखे नंगे ही सही, मध्यप्रदेश मेरा मंदिर और यहां की जनता मेरी भगवान..

By: Shailendra Sharma

Published: 27 Oct 2020, 09:39 PM IST

बुरहानपुर. मध्यप्रदेश में जैसे जैसे उपचुनाव की तारीखें नजदीक आ रही हैं, बीजेपी-कांग्रेस के बीच जुबानी जंग तेज होती जा रही है। एमपी की सियासी बिसात पर विरोधी पार्टी पर हमला बोलने के लिए सीएम शिवराज ने एक नए शब्द का प्रयोग किया है। 'सेठ' शब्द को बार बार अपने भाषण में लाकर सीएम शिवराज कमलनाथ पर जमकर हमला बोल रहे हैं। बता दें कि कांग्रेस नेता की ओर से सीएम शिवराज को लेकर दिए गए भूखे-नंगे कहने के बाद से लगातार सीएम शिवराज हर मंच से उस बयान को दोहरा कर कांग्रेस को अपने निशाने पर ले रहे हैं। बुरहानपुर के देड़तलाई में चुनावी सभा के दौरान सीएम शिवराज ने कमलनाथ को सेठ बताते हुए जमकर तंज कसे।

25 मिनट के भाषण में 15 बार 'सेठ' शब्द
बुरहानपुर के देड़तलाई में चुनावी सभा को संबोधित करने पहुंचे सीएम शिवराज पूरी तरह से कांग्रेस और पूर्व सीएम कमलनाथ पर हमलावर नजर आए। अपने 25 मिनट के भाषण में सीएम शिवराज ने 15 बार कमलनाथ को सेठ कमलनाथ कहकर संबोधित किया। सीएम ने कहा, मुझे नंगा-भूखा कह रहे मैं भूखा नंगा ही सही सेठ कमलनाथ बताएं कि वे कहां से आए हैं ? मैं तो सीहोर जिले के जेतगांव का ही हूं, यहीं का हूं। मुझे नंगे-भूखे परिवार से कहते हो, मैं किसान हूं, फर्क नहीं पड़ता। तुम उद्योगपति, सेठ कमलनाथ, सवा साल में क्या किया? विकास के सारे काम ठप्प कर दिए, भ्रष्टाचार की पराकाष्ठा कर दी। वल्लभ भवन को दलालों की मंडी बना दिया। सीएम शिवराज ने मंच से जनता को सचेत करते हुए आगे कहा कि अब कांग्रेस के चक्कर में मत आना, कांग्रेस ने माया फैला दी है। कांग्रेसी आएगा, दाना डालेगा, दारू लाएगा, पैसा बांटेगा लेकिन अब आपको फंसना नहीं है। हम विकास करते हैं तो भी उन्हें दिक्कत है। कहते हैं कि शिवराज नारियल का ट्रक लेकर घूमता है। अरे, तुम्हारी किस्मत फूटी थी तो तुम नारियल कहां से फोड़ते? विकास कहां से करते?

देखें वीडियो-

 

सुमित्रा कास्डेकर के लिए मांगे वोट
सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मंच से बीजेपी प्रत्याशी सुमित्रा कास्डेकर की तारीफ करते हुए कहा कि उन्हें गर्व है इस बेटी पर जिसने अपनी विधायकी छोड़ दी लेकिन जनता के साथ अन्याय होते हुए नहीं देखा। मैं जनता को सिर झुकाकर प्रणाम करता हूं तो कांग्रेसियों को दिक्कत होती है कहते हैं कि सीएम ने घुटने टेक दिए। लोकतंत्र में जनता ही भगवान होती है और जनता का झुककर प्रणाम करना मेरे लिए गर्व की बात है। सीएम ने कहा कि विधायक रहते हुए सुमित्रा जब विकास के लिए पैसे मांग रही थी तो कमलनाथ कहते थे पैसा कहां से लाएं, सब शिवराज ले गया। औरंगजेब का खजाना था जो मैं उठाकर ले गया। सुमित्रा के कहने पर हमने दो मिनट में विकास कार्यों के लिए राशि स्वीकृत की।

खकनार में एकलव्य विद्यालय खोलने का ऐलान
सीएम शिवराज ने जनसभा में आदिवासियों के बच्चों के लिए 43 करोड़ की लागत से एकलव्य विद्यालय खोलने की घोषणा की साथ ही राजस्व भूमि पर सालों से निवास कर रहे लोगों को नया कानून बनाकर पट्टे देने की बात कही और कहा कि कानून बदल दूंगा लेकिन पुराने कब्जेदारों को पट्टा बनाकर देंगे। इसके अलावा सीएम शिवराज ने आदिवासी बच्चों को भोजन, आवास और बेहतर शिक्षा देकर बड़े पदों तक आगे भेजने की भी बात कही। उन्होंने विकास कार्यों को गिनाते हुए कहा कि हमने ताप्ती नदी पर 5 बैराज बनवाए, 56 छोटी सिंचाई की योजना बनाकर दी, केला किसानों को 1 लाख रुपए हेक्टर का मुआवजा दिया। नेपानगर में विकास का यह ट्रेलर है पिक्चर अभी बाकी है।

Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned