scriptMP News: नकली घी बनाने वाली फैक्ट्री का भंडाफोड़, मोम को पिघलाकर बना रहे थे घी | MP News: Fake ghee was being made by melting wax, officers sealed the factory | Patrika News
बुरहानपुर

MP News: नकली घी बनाने वाली फैक्ट्री का भंडाफोड़, मोम को पिघलाकर बना रहे थे घी

MP News: तहसीलदार रामलाल पगारे ने बताया कि सूचना मिली थी कि हमीदपुरा में फैक्ट्री चल रही है, जहां पर तेल बन रहा है। संयुक्त टीम के साथ जांच की गई तो यहां सनलावर से तेल, घी निकाला जा रहा था।

बुरहानपुरJul 05, 2024 / 11:12 am

Ashtha Awasthi

Fake ghee

Fake ghee

MP News: हमीदपुरा के सैफी नगर में चल रही तेल फैक्ट्री पर चार विभागों की संयुक्त टीम ने छापेमार कार्रवाई की। यहां सनलावर मोम के वेस्ट को पिघलाकर नकली घी, तेल निकाला जा रहा था। खाने के तेल में मिलावट की आशंका के चलते अफसरों ने फैक्ट्री को सील कर दिया।
अफसरों की जांच में गंदगी, फैक्ट्री के ऊपर से हाइटेंशन लाइन गुजरने के साथ सुरक्षा उपकरण नहीं मिले। जबकि निंबोला क्षेत्र में दूसरी तेल फैक्ट्री पर भी जांच करने पहुंचे, लेकिन फैक्ट्री नहीं मिलने पर खाली हाथ लौटना पड़ा। शहर में बिकने वाले खाने के तेल में मिलावट की शिकायत मिल रही थी।
कलेक्टर भव्या मित्तल ने तहसीलदार, खाद्य सुरक्षा, खाद्य आपूर्ति और नापतौल विभाग की संयुक्त टीम गठित की। गुरुवार दोपहर 2 बजे हमीदपुरा में सईदा कार्पोरेशन तेल फैक्ट्री पर पहुंचे। यहां भट्टियों जलाकर मोम से तेल एवं घी निकाला जा रहा था। दस्तावेज की जांच करने के साथ तेल, घी के संबंध में जानकारी ली। खाद्य सुरक्षा अधिकारी ने घी, तेल के सैंपल भी लिए। गंदगी, सुरक्षा के उपकरण नहीं मिलने पर फैक्ट्री को सील कर दिया गया।
ये भी पढ़ें: मोहन सरकार का बड़ा ऐलान, अंत्येष्टि के लिए मिलेंगे 10 हजार रुपए, टोल-नाकों पर मिलेगी छूट

जांच करेंगे, कहां हो रहा उपयोग

तहसीलदार रामलाल पगारे ने बताया कि सूचना मिली थी कि हमीदपुरा में फैक्ट्री चल रही है, जहां पर तेल बन रहा है। संयुक्त टीम के साथ जांच की गई तो यहां सनलावर से तेल, घी निकाला जा रहा था। संचालक का कहना है कि यह खाने के काम नहीं आता। टेक्सटाइल्स, रिफायनरी को देते हैं। तेल के सैंपल लिए है, फैक्ट्री ओपन एरिया में होने के साथ हाईटेंशन लाइन के नीचे संचालित हो रही है। सुरक्षा की दृष्टि से फैक्ट्री को सील कर दिया गया। फैक्ट्री की पूरी जांच करने के साथ सैंपल के रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

दूसरी जगह से खाली हाथ लौटे

एक फैक्ट्री को सील करने के बाद संयुक्त टीम निंबोला क्षेत्र में बलड़ी गांव में संचालित दूसरी तेल फैक्ट्री पर कार्रवाई करने पहुंची। अफसरों को यहां पर कोई भी फैक्ट्री संचालित नहीं मिली। काफी तलाश करने के बाद टीम लौट गई। कलेक्टर द्वारा गठित दल में राजस्व विभाग से तहसीलदार रामलाल पगारे, खाद्य आपूर्ति अधिकारी अर्चना नागपुरे, खाद्य सुरक्षा अधिकारी कमलेश डावर सहित नापतौल विभाग की निरीक्षक मौजूद थी।

तेल से बनता है साबुन, कंपनियां खरीदती हैं

फैक्ट्री संचालक मोईन उद्दीन ने कहा यह तेल खाने के उपयोग में नहीं आता है। हम आंध्रप्रदेश से मोम का वेस्ट बुलाकर यहां पर रिसाइकिल कर रॉ मटेरियल निकालते हैं। यह घी की तरह होता जो कपड़े धोने के साबुन में उपयोग होता है। तेल खाने में उपयोग नहीं होता, बल्कि कंपनियां खरीदती हैं। कंपनियां क्या करती है यह हमें नहीं माल। हाईटेंशन लाइन ऊपर से जा रही है वह हमारी गलती नहीं है। जमीन खरीदने के बाद कही बार लाइन हटाने के लिए कहा है।

ऐसे भी मामले

● मई 2024: बैरागढ़ में 40 किलो मिलावटी घी जब्त, दो किलो घी व 250 ग्राम पनीर भी दे रहा था।

● जून 2024: पन्ना में 850 लीटर नकली घी जब्त, क्रीम, डालडा व केमिकल मिलाकर बना रहे थे
● नवंबर 2023: रायसेन में असली घी का सेंट लेकर वनस्पति घी में उबले आलू मिक्स कर बेच रहे थे।

Hindi News/ Burhanpur / MP News: नकली घी बनाने वाली फैक्ट्री का भंडाफोड़, मोम को पिघलाकर बना रहे थे घी

ट्रेंडिंग वीडियो