दुकानदारों को नहीं मालूम ग्रीन क्रेकर्स, बेच रहे सामान्य पटाखे

एनजीटी ने ग्रीन क्रेकर्स वाले पटाखे ही फोडऩे के आदेश दिए

 

By: tarunendra chauhan

Published: 13 Nov 2020, 06:16 PM IST

बुरहानपुर. दीपावली पर एनजीटी ने ग्रीन क्रेकर्स वाले पटाखें ही फोडऩे के आदेश दिए हैं, लेकिन शहर में अधिकांश दुकानदारों के पास ग्रीन के्रकर्स के पटाखे ही नहीं है। पत्रिका टीम जब दशहरा मैदान में लगी पटाखा दुकानों पर पहुंची तो कई दुकानदारों को यह ही नहीं मालूम था कि ग्रीन क्रेकर्स क्या होता है। बाजार में सामान्य पटाखें ही बेचे जा रहे हैं, जबकि सामान्य पटाखे फोडऩे पर धारा 144 लागू कर दी गई है।

वायू प्रदूषण की स्थिति को देखते हुए नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने आदेश जारी कर जिले में ग्रीन के्रकर्स वाले पटाखे ही फोडऩे की अनुमति दी है, लेकिन कई पटाखा विक्रेताओं के पास ऐसे पटाखे ही मौजूद नहीं है। दीपावाली पर दुकान लगाने के लिए विक्रेताओं ने लाखों रुपए के सामान्य पटाखे, रस्सी बम, रॉकेट, फूलझड़ी आदि खरीदे हैं। जबकि शहरी क्षेत्र में ऐसे पटाखों को फोडऩे और विक्रय करने पर प्रतिबंध लगाया गया है। प्रशासन की तरफ से अब तक पटाखा दुकानदारों को कोई आदेश की कॉपी तक नहीं मिली है, ऐसे में दुकानदार भी सामान्य पटाखें ही बेच रहे हैं। जबकि पहले ही शासन की तरफ से विदेशी और देवी देवताओं के चित्र वाले पटाखें फोडऩे पर प्रतिबंध किया गया है। ऐसे में अब एनजीटी के आदेश भी आने के पटाखा विक्रेता अनदेखी कर प्रदूषण वाले पटाखें ही बेच रहे हैं।

आदेश आए हैं अलगे साल लेकर आएंगे
पटाखा विक्रेता राजकुमार राजानी ने कहा कि ग्रीन के्रकर्स वाले पटाखें सामान्य पटाखों से महंगे होते हैं। बड़े महानगरों में खरीदे जाते हंै। बुरहानपुर सामान्य पटाखें ही बिकते हंै। दीपावली के समय अब ग्रीन के्रकर्स पटाखे बेचने के आदेश आए हैं, अब अगले साल ही खरीदकर ले आए। ग्रीन के्रकर्स पटाखों के विक्रय को लेकर प्रशासन की तरफ से कोई आदेश नहीं आए है। अखबार में खबर पढऩे के बाद ही मालूम पड़ा कि अब ग्रीन क्रेकर्स वाले पटाखें बेचना है। जबकि सभी लोगों ने पहले से ही लाखों रुपए के सामान्य पटाखों की खरीदी कर ली है।

ग्रीन के्रकर्स मांगने पर मिले सामान्य पटाखें
पत्रिका टीम ने जब दशहरा मैदान में लगी दुकानों पर पहुंच कर ग्रीन के्रकर्स के पटाखें मांगे तो कुछ दुकानदारों ने बच्चों के छोटे इको फ्रेंडली पटाखें हाथ में थमा दिए, कहा यह है हमारे पास ग्रीन के्रेकर्स। एक दुकानदार ने हरा रंग छोडऩे वाले पटाखें को के्रकर्स बताया। बाजार में ग्रीन के्रकर्स के पटाखें मौजूद नहीं है। क्योंकि यह पटाखे प्रदूषण मुक्त होने से महंगे होते हैं। सामान्य पटाखों की तुलना में आवाज और धुआं भी कम होता है।

- पटाखा दुकानों पर जांच के दौरान अगर अमानक पटाखें मिलते है तो कार्रवाई की जाएगी।
काशीराम बड़ोले, एसडीएम बुरहानपुर

Show More
tarunendra chauhan Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned