अब 24 मई की सुबह 6 बजे तक कफ्र्यू, मुख्यमंत्री ने की बुरहानपुर की तारीफ

- आठ मरीज और मिले

By: ranjeet pardeshi

Updated: 20 May 2021, 06:37 PM IST

बुरहानपुर. कोरोना की गति पर पिछले चार दिन से ब्रेक लग गया है, लेकिन हालात यह नहीं की अभी कफ्र्यू में ढील दी जा सके। इसलिए 21 मई की सुबह 6 बजे तक लगे कफ्र्यू को 24 की सुबह 6 बजे तक बढ़ा दिया गया है। गुरुवार को फिर 8 मरीज मिले। अब भी 117 एक्टिव केस बुरहानपुर में है।
अपर कलेक्टर शैलेंद्र सिंह सोलंकी ने धारा 144 में निहित शक्तियों का प्रयोग करते हुए संपूर्ण बुरहानपुर जिले में 24 मई की सुबह 6 बजे तक कोरोना कफ्र्यू लगाने का आदेश जारी किया है। लेकिन जिस तरह तेजी से संक्रमण फैल रहा है, उस हिसाब से वैक्सीनेशन में तेजी नहीं दिख रही है। वैक्सीन के लिए लोगों में जागरुकता आई है, लेकिन डोज की कमी अभियान को पीछे धकेल रही है।

बुरहानपुर जिला आइडियल मॉडल के रूप में स्थापित
जिले में कोरोना पर नियंत्रण बनाए रखने एवं नवाचार कार्यों की सराहना
एनेस्थेटिस्ट के पद पर पोस्टिंग एवं स्टॉफ की कमी दूर करने की मांग
बुरहानपुर. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज इंदौर संभाग के समस्त जिलों के कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक एवं क्राईसिस मैनेजमेंट गु्रप के सदस्यों के साथ जिले में कोरोना नियंत्रण एवं रोकथाम के लिए किए जा रहे कार्यों एवं वस्तुस्थिति के संबंध में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से कोविड.19 समीक्षा बैठक ली। इस अवसर पर उन्होंने बारी.बारी से प्रत्येक जिलों के कलेक्टर से बिन्दुवार जिले में किये जा रहे कार्यों की जानकारी प्राप्त की।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को बुरहानपुर कलेक्टर प्रवीण सिंह ने जिले में कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम, नियंत्रण तथा उपायों के बारे में तैयार कर क्रियान्वित किए जा रही कार्ययोजना एवं अपनाए जा रहे नवाचारों से अवगत कराया। उन्होंने बताया कि बुरहानपुर जिला महाराष्ट्र राज्य का सीमावर्ती जिला हैं। जिससे लगे महाराष्ट्र राज्य के जिलों में कोरोना मामलों की संख्या बढ़ती नजर आ रही हैं। हमारे द्वारा बार्डर पर सख्ती के साथ निगरानी रखी जा रही हैं साथ ही बिना आरटी.पीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट के जिले में प्रवेश पूर्णत: प्रतिबंधित हैं।
बुरहानपुर जिला आइडियल मॉडल के रूप में स्थापित
समीक्षा बैठक ले रहे मुख्यमंत्री ने जिले में कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण हेतु किये जा रहे कार्यों एवं अपनाये जा रहे नवाचारों की प्रशंसा की, उन्होंने जिला प्रशासन टीम, क्राईसिस मैनेजमेंट ग्रुप के सदस्यों एवं जिले को बधाई दी। उन्होंने कहा कि बुरहानपुर जिला आइडियल मॉडल के रूप में स्थापित है। महाराष्ट्र राज्य का सीमावर्ती जिला होने के बावजूद भी कोरोना पर पूर्ण नियंत्रण रखें हुए हैं। ऐसे ही आगे भी कार्य करते रहे ताकि हम कोरोना को पूर्ण रूप से परास्त कर सकें।
एनेस्थेटिस्ट के पद पर पोस्टिंग एवं स्टॉफ की कमी दूर करने की मांग
आयोजित समीक्षा बैठक में पूर्व मंत्री अर्चना चिटनिस ने जिले में एनेस्थेटिस्ट के पद पर पोस्टिंग करने का अनुरोध किया तथा नेपानगर विधायक सुमित्रा कास्डेकर ने डॉक्टर्स एवं मेडिकल स्टॉफ की कमी को दूर करने की मांग रखी।
यह रहे उपस्थित
बुरहानपुर एनआईसी कक्ष में आयोजित वीडियो बैठक में पुलिस अधीक्षक राहुल कुमार लोढा, जिला पंचायत सीईओ अदिति गर्ग, पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस, नेपानगर विधायक सुमित्रा कास्डेकर, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष ज्ञानेश्वर पाटिल, पूर्व निगम अध्यक्ष मनोज तारवाला, पूर्व महापौर अतुल पटेल, भाजपा अध्यक्ष मनोज लधवे, हर्षवर्धन सिंह चौहान सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण उपस्थित रहे।

ranjeet pardeshi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned