ऑनलाइन करना होगा वन अधिकार पट्टों का आवेदन, सत्यापन के बाद विभाग करेगा जारी

- शासकीय कार्यालयों पर लगाए पोस्टर

ऑनलाइन करना होगा वन अधिकार पट्टों का आवेदन, सत्यापन के बाद विभाग करेगा जारी
- शासकीय कार्यालयों पर लगाए पोस्टर
बुरहानपुर. वन अधिकार अधिनियम के तहत जारी होने वाले पट्टों के लिए अब आदिवासियों को शासकीय विभागों के चक्कर नहीं काटने पड़ेगे। आदिम जाति कल्याण विभाग द्वारा वनभूमि पर मालिकाना हक जता रहे आदिवासियों के आवेदनों के निराकरण के लिए ऑनलाइन प्रक्रिया पोर्टल तैयार किया गया है। अब एमपी ऑनलाइन के माध्यम से पट्टे के लिए आवेदन करना होगा। आवेदनों का परीक्षण वनमित्र सॉफ्टवेयर के माध्यम से पात्र हितग्राहियों की सूची तैयार की जाएगी।
शासकीय कार्यालयों पर पट्टों के ऑनलाइन आवेदनों की प्रक्रिया को समझाने के लिए जागरुकता पोस्टर लगाए गए हैं। जिला कलेक्टर कार्यालय, जिला पंचायत कार्यालय में भी यह पोस्टर लगाए गए है। अभी तक आदिवासियों को वन अधिकार पट्टों के लिए शासकीय कार्यालयों और अधिकारियों के चक्कर लगाने पड़ रहे थे, लेकिन अब सीधे ऑनलाइन से इस प्रक्रिया को जोड़ दिया गया है। एमपी ऑनलाइन के माध्यम से आवेदन करने के बाद सॉफ्टवेयर के माध्यम से परीक्षण किया जाएगा और पात्र पाए जाने पर ऑनलाइन के माध्यम से ही वनभूमि का पट्टा दिया जाएगा।
ऐसी चलेगी ऑनलाइन प्रक्रिया
पट्टे का आवेदन करने के बाद दावेदार ग्राम रोजगार सहायक की मदद से दावा किए गए भूमि का नक्शा तैयार करेगा। वन अधिकार समिति पंजीकृत दावों के भौतिक सत्यापन के लिए एक तिथि निर्धारित करेगी। वन विभाग, राजस्व विभाग, दावेदार और ग्राम सभा को सत्यापन की सूचना एसएमएस और पत्र के माध्यम जानकारी दी जाएगी।ग्राम वन अधिकार समिति स्थल का भौतिक सत्यापन कर मोबाईल एप द्वारा भूमि का नक्शा बनाकर कागजों का सत्यापन होगा। वनाधिकार दावों का ग्राम सभा का प्रस्ताव पारित किया जाएगा। जिला स्तर की वनाधिकार समिति द्वारा पट्टों के दावों पर अंतिम निर्णय लेकर पात्र दावेदारों को वन अधिकार प्रमाण.पत्र ऑनलाइन पद्धति से ही वितरित करेगे।
बीयू०३०१: कलेक्टर कार्यालय में लगा जागरुकता पोस्टर।

 

ranjeet pardeshi Bureau Incharge
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned