लोकार्पण कार्यक्रम में पहुंची पूर्व मंत्री बोले निर्माण कार्य भाजपा के समय के

बुरहानपुर में आवास के पट्टे कौन देगा मप्र सरकार देगी : प्रभारी मंत्री
प्रधानमंत्री आवास योजना को बना दिया मुयमंत्री आवास : पूर्वमंत्री
- करोड़ों रुपए के विकास कार्यों का लोकार्पण
- स्टेडियम ग्राउंड पर हुआ मुय आयोजन

बुरहानपुर. नेहरू स्टेडियम पर आयोजित मुयमंत्री आवास मिशन व अन्य निर्माण कार्यों के लोकार्पण कार्यक्रम में राजनीति भी छा गई। पहले मंत्री द्वय ने निर्माण कार्यों का लोकार्पण करने के बाद जब मंच पर पहुंचे तो नेपानगर विधायक सुमित्रा कास्डेकर का संबोधन शुरू हुआ था, इस बीच पूर्वमंत्री अर्चना चिटनीस अपने कार्यकर्ताओं के साथ कार्यक्रम में आ गई। यह देख सभी सकते में आ गए। उन्हें मंत्री के निर्देश पर मंच पर भी बुलाया गया, लेकिन उन्होंने जाने से मना कर दिया। कार्यक्रम के बाद उन्होंने मीडिया से कहा कि कांग्रेस सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना को मुयमंत्री आवास योजना का नाम दे दिया। हालांकि जिला प्रभारी मंत्री ने भी इसका जवाब दिया कहा कि आवास योजना के लिए पट्टे कौन देगा मप्र सरकार देगी।

यह बोलीं पूर्वमंत्री
भाजपा के कार्यों का श्रेय ले रही है कांग्रेस सरकार
भाजपा सरकार में मंत्री रही अर्चना चिटनीस कार्यक्रम पूरा होने तक जनता के बीच में अपने कार्यकर्ताओं के साथ कुर्सी पर बैठी रही। कार्यक्रम होने के बाद उन्होंने कहा कि जिन विकास कार्यों का लोकार्पण एवं भूमिपूजन हो रहा है, वास्तव में वह काम मध्यप्रदेश की तत्कालीन भाजपा सरकार के कार्यकाल के दौरान स्वीकृत एवं निर्माणाधीन कार्य है। भारतीय जनता पार्टी के कार्यों का कांग्रेस सरकार श्रेय ले रही है। हम अपने कार्यकाल में स्वीकृत होकर प्रारंभ हुए कार्यों के लोकार्पण एवं भूमिपूजन में शामिल होने आए है। आयोजन में विडंबना यह भी है कि कुछ निर्माण कार्य ऐसे भी है जो पिछले एक से देढ़ वर्ष पूर्व पूर्ण होकर लोकार्पित हो चुके हैं और आज उनका पुन: लोकार्पण किया जा जा रहा है, जो हास्यास्पद है। वर्तमान सरकार में निर्वाचित जनप्रतिनिधियों को अपने प्रयासों से स्वीकृत कार्यों का ब्यौरा भी इस आयोजन में प्रस्तुत करना चाहिए।
अगर कांग्रेस स्वयं के कार्यकाल में स्वीकृत कार्यों का भूमिपूजन.लोकार्पण करती तो हम उन्हें बधाई देते। चिटनिस ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी में निर्मित मकानों का आज जो गृह प्रवेश किया गया है, उन मकानों में अधिकांश हितग्राही एक से देढ़ वर्ष पूर्व से गृहप्रवेश कर चुके हैं।
प्रभारी मंत्री का जवाब
पूर्वमंत्री के आरोप के बाद स्वास्थ्य व जिला प्रभारी मंत्री तुलसीराम सिलावट ने कहा कि मप्र की जनता ने जो सर्टिफिकेट दिया है उनके आशीष से कमलनाथ के नेतृत्व में सरकार बन चुकी है। बेबूनियाद आरोप है। यह सरकार घोषणा वीरों की नहीं यह सरकार वचन देती है जो बोलती है वह करती है। कई लोगों ने आरोप लगाए थे एक भी सरकार का कर्जा माफ नहीं होगा। मप्र में पहले चरण में २० लाख, दूसरे चरण में २७ लाख किसानों का कर्जामाफ किया। बुरहानपुर में १६ हजार ८८५ किसानों का १०९ करोड़ का कर्जामाफकिया। बिजली बिल कम किए। जो लोग आवास के लिए भटक रहे थे, ऐसे ६७८५ आवास नए और शेष बचे ४ हजार मकान २ माह के अंदर उपलब्ध कराएंगे। प्रधानमंत्री आवास को मुयमंत्री आवास को ये पट्टे कहा देंगे मप्र की जमीन पर बुरहानपुर की जमीन पर ये जमीन कौन दे रहा मप्र की सरकार। कृषि मंत्री ने भी निगम आयुक्त को ३० दिन के अंदर बचे मकानों की डीपीआर बनाकर देने के निर्देश दिए। मंच पर कांग्रेस अध्यक्ष अजय रघुवंशी, किशोर महाजन, अधिवक्ता राजेश कोरावाला, अजय उदासीन, फहीम हाशमी, गोरी शर्मा, इस्माइल अंसारी, अजय उदासीन, शैली कीर, रिंकु टांक, नूर काजी आदि मौजूद थे।

ranjeet pardeshi Bureau Incharge
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned