शहर के गंदे पानी को शुद्ध कर गार्डन में कर रहे उपयोग, खिल उठे मुरझाएं पौधें

- नवाचार

By: Amiruddin Ahmad

Updated: 22 Jun 2021, 12:02 AM IST

बुरहानपुर. शहर से निकलने वाले गंदे पानी को सीवरेज के एसटीपी प्लांट में शुद्ध कर रेणुका गार्डन में उपयोग किया जा रहा है।गर्मी में पानी नहीं मिलने से सूख रहे पौधें फिर से खिल उठे। निगम ने 5 लाख रुपए खर्च कर दो किमी दूर प्लांट से पाइप लाइन को गार्डन को पहुंचाया। गार्डन में हरियाली लौटने से लोगों की संख्या में बढ़ गई है।
रेणुका उद्यान की पथरीली जमीन होने गर्मी के दिनों में पौधों की सिंचाई के लिए पानी नहीं मिलता है। तीन से अधिक ट्यूबवेल होने के बाद भी जलस्तर कम होने से गार्डन में हरियाली गायब होने के बाद लोगों को मायूस होकर लौटना पड़ता था। यह देखकर निगम के उद्यान प्रभारी उपेंद्र गुजराती ने नवाचार करते हुए सीवरेज योजना के एसटीपी प्लांट में शुद्ध होकर ताप्ती नदी में छोड़े जाने वाले पानी का उपयोग करने का नवाचार किया। निगम के वरिष्ठ अधिकारियों की सहमति के बाद यहां पर 5 लाख रुपए खर्च कर गार्डन से 2 किमी दूर प्लांट से पाइप लाइन डालकर पानी पहुंचाया गया।यह नवाचार सफल होने पर गार्डन के अंदर 24 घंटे शुद्ध पानी मिल रहा है।गार्डन में गर्मी के दिनों में मुरझाएं पौधें भी खिल गए है।
कांच की तरह साफ होता है गंदा पानी
शहर में सीवरेज की पाइप लाइन से गंदा पानी एसटीपी प्लांट तक पहुंचता है। दो से तीन प्लांट पर पानी को शुद्ध कर ताप्ती नदी में छोड़ा जा रहा था, यह पानी शुद्ध होकर कांच की तरह साफ होने से कोई भी इसी गंदा नहीं कह सकता। पानी नदी में व्यर्थ न करते हुए गार्डन में लगे पौधों की सिंचाई के लिए शुरू कर दिया गया।24 घंटे तक एसटीपी प्लांट के पानी से पौधों की सिंचाई हो रही है।

Show More
Amiruddin Ahmad
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned