विदेश से आने वाले हर नागरिक की गंभीरता से जांच कर वायरस के लक्षण मिलने पर आइसोलेशन वार्ड में करें भर्ती


- निजी अस्पतालों को दिए निर्देश
- कोरोना वायरस को लेकर डॉक्टरों की बैठक

बुरहानपुर. कोरोना वायरस की रोकथाम और नियंत्रण को लेकर जिला अस्पताल में डॉक्टरों की बैठक हुई। सीएमएचओ ने शासकीय डॉक्टरों के साथ ही निजी अस्पतालों कों विदेश की यात्रा कर बुरहानपुर पहुंच रहे हर नागरिक की गंभीरता से जांच कर कोरोना वायरस के लक्षण मिलने पर स्वास्थ्य विभाग को सूचना देने के निर्देश दिए। अस्पताल में इलाज के लिए पहुंच रहे सर्दी, खासी, बुखार सहित निमोनिया के मरीजों को लेकर सतर्क रहने के लिए कहा गया।
सोमवार दोपहर १ बजे जिला अस्पताल सिविल सर्जन कक्ष में शासकीय और निजी डॉक्टरों की बैठक शुरू हुई। सीएमएचओ डॉ. विक्रमसिंह वर्मा ने का कि हाल ही में चीन के हुबई राज्य के वुहान शहर में एक नए प्रकार का कोरोना वायरस से निमोनिया के प्रकरण पाए गए हैं। चीन के साथ ही 20 अन्य देश सहित भारत के केरल राज्य में भी कोरोना वायरस के प्रकरण सामने आने के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन ने पब्लिक हेल्थ इमजेंसी आफ इंदरनेशनल कंसर्न घोषित किया गया है। प्रदेश सरकार की ओर से इस वायरस को लेकर अलर्ट जारी किया गया है। शासकीय डॉक्टर सहित निजी अस्पताल कोरोना से निपटने के लिए उच्च स्तर के संक्रमण नियंत्रण प्रोटोकाल का पालन करें। प्रभावित देशों से कोई भी नागरिक यदि बुरहानपुर जिले में आता है और निजी अस्पताल में अपना इलाज करवाता है तो स्वास्थ्य विभाग को इसकी जानकारी दी जाए। मरीज को मास्क पहनाए और आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करें। प्रभावित देशों से आने वाले हर व्यक्ति की निगरानी रखी जाएगी। शंका होने पर मरीज को आईसोलेशन वार्ड में 14 दिनों तक निगरानी में रखा जाएगा। बैठक में सिविल सर्जन डॉक्टर शकील अहमद खान,आईएमए अध्यक्ष डॉ. केपी श्रोती, डॉ. जैनुद्दीन बोहरा, डॉ. केएम गुप्ता, डॉ. प्रसन्न तरस, डॉ. गणेश खर्चे, डॉ. आशुतोष जांबरे, डॉ. आबिद सैययद, डॉ. हेमंत, डॉ. प्रशांत कुयटे, डॉ. एमपी गर्ग, डॉ. अशोक पगारे, डॉ. आर चौकसे, डॉ. राजेश सोलंकी, डॉ. प्रतीक नवलखे, डॉ. वाय बी शास्त्री, डॉ. डीके पाटीदार, डॉ. एमएच अंसारी, रविंद्रसिंह राजपूत मौजूद थे।
सर्दी,खासी और निमोनिया वालों मरीजों की करे जांच
अस्पताल में डॉक्टरों की संयुक्त बैठक में कहा कि शासकीय सहित निजी अस्पतालों में सर्दी, खासी, बुखार सहित निमोनिया से पीडि़त अगर कोई भी व्यक्ति इलाज कराने के लिए पहुंच रहा है तो ऐसे मरीजों की गंभीरता से जांच की जाए। कोरोना एक नए प्रकार का तीव्र संक्रामक वायरस है, जो चीन से सामने आया। जिसकी पहचान गंभीर वसन संक्रमण से पीडि़त भर्ती मरीज जिसे सर्दी,खांसी एवं तेज बुखार की तकलीफ हो और प्रभावित देशों सहित खासकर 14 दिन के भीतर चीन के हुबई राज्य के वुहान शहर की यात्रा की हो ऐसे मरीजों की गंभीरता से जांच करे।
वायरस की अब तक तैयार नहीं दवाई
नए कोरोना वायरस के पीडि़त मरीज को ठीक करने के लिए अब तक कोई वैक्सीन या दवाइयां नहीं बनी है। केवल लक्षण आधारित उपचार ही दिया जाता है। वायरस से बचने के लिए बचाव के तरीके समझाए जा रहे है। लोगों को कोरोना वायरस के संक्रमण की जानकारी देकर प्रभावित देशों की यात्रा न करने के साथ ही भीड़ भाड़ वाली जगह पर जाने, खुले में नहीं थंूकेने एवं लगातार साबून से हाथ धोते रहने की सलाह दी जा रही है।
इन देशों में कोरोना वायरस का असर
जापान, दक्षिण कोरिया, वियतनाम, सिंगापुर, आस्ट्रेलिया, मलेशिया, कंबोडिय़ा,थाईलेंड, नेपाल, श्रीलंका और संयुक्त राष्ट्र अमेरिका, कनाडा, फ्रंास, जर्मनी संयुक्त अरब अमीरात, हांगकॉंग, मकाउ, फिलिपींस, ताईवान एवं फिनलेंड सहित भारत के केरल राज्य मे न्यू कोरोना वायरस के प्रकरण सामने आए है।
शंका के सामाधान के लिए टोल फ्री नंबर जारी
प्रदेश स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना वायरस को लेकर कंट्रोल रूम तैयारर किया है। टोल.फ्री नंबर 104, प्रतिदिन सुबह 8 से रात 8 बजे तक भोपाल में स्थापित किया गया है। किसी भी शंका का समाधान को टोल.फ्री नबर 104 पर प्राप्त कर सकते है।

ranjeet pardeshi Bureau Incharge
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned