Strike #  एक दिन में बैंकों का 30 करोड़ का कारोबार ठप

Strike #  एक दिन में बैंकों का 30 करोड़ का कारोबार ठप
burhanpur banks stalled Strike

Editorial Khandwa | Publish: Mar, 01 2017 01:04:00 AM (IST) Burhanpur, Madhya Pradesh, India

बैंकों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल से उपभोक्ताओं को इसका खामियाजा उठाना पड़ा। सुबह 11 बजे बैंकों की ओर उपभोक्ता लेनदेन के लिए पहुंचे। लेकिन बैंक पर ताले देख हैरत में पड़ गए। यही हाल अंचलों की राष्ट्रीयकृत बैंकों की ब्रांच का रहा।

बुरहानपुर @ पत्रिका . राष्ट्रीयकृत बैंकों की हड़ताल से लगभग 30 करोड़ रुपए का कामकाज प्रभावित हुआ है। मंगलवार को सभी राष्ट्रीयकृत बैंकें बंद रहीं। जिसकारण बैंक आए लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। जबकि कई किलोमीटर दूर से आए लोगों को वापस लौटना पड़ा। 

ये हैं बुरहानपुर की महिला पार्षदजिनका काम चूल्हा-चौका, पति देखते हैं सारा इंतजाम

बैंकों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल से उपभोक्ताओं को इसका खामियाजा उठाना पड़ा। सुबह 11 बजे बैंकों की ओर उपभोक्ता लेनदेन के लिए पहुंचे। लेकिन बैंक पर ताले देख हैरत में पड़ गए। यही हाल अंचलों की राष्ट्रीयकृत बैंकों की ब्रांच का रहा।
चचाला से आए मोहम्मद अनीस ने कहा कि हड़ताल की कोई जानकारी नहीं थी। जिस तरह से खाते के लेन-देन पर मोबाइल पर मैसेज आता है उसी तरह हड़ताल की जानकारी भी पंद्रह दिन पहले दी जानी चाहिए।

ये भी पढ़ें...Body Building # 90 किलो वर्ग में बुरहानपुर के आमिर खान बने विजेता, समीर खान मिस्टर एमपी

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस के आह्वान पर यह हड़ताल की गई थी। 31 जनवरी 17 को दिल्ली में यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन की सभा केके नायर की अध्यक्षता में हुई थी।
 जिसमें बैंकिंग उद्योग से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर विस्तुत चर्चा की गई थी। इधर, यूनियन ने कहा कि नोटबंदी के कारण कर्मचारियों अधिकारियों द्वारा निर्धारित समय से अधिक कार्य किए जाने की क्षतिपूर्ति नहीं की गई।

ये भी पढ़ें...ये देखें पार्षद के पति की निगम में नेतागीरी, आयुक्त को दी काम कराने की धौंस


निदेशकों के रिक्त पदों को नहीं भरा गया। अनुकंपा नियुक्ति, ग्रेच्युटी का भुगतान, सेवानिवृत्ति के समय छुट्टी नकदीकरण की मांग की गई।
 तीन बैंक , 2 हजार हैं कर्मचारी
जिले में राष्ट्रीयकृत बैंकों के कुल दो हजार कर्मचारी हड़ताल पर रहे। दिनभर बैंकों में लेन-देन का कार्य ठप रहा।  बैंक ऑफ इंडिया शनवारा शाखा के बाहर अफसरों ने एकत्रित होकर नारेबाजी की। कर्मियों ने कहा कि सरकार की ओर से हमारी मांगें मानी नहीं जा रही है। नोटबंदी के दौरान जो अतिरिक्त ड्यूटी लगाई गई उसका वेतन दिया जाए।

ये भी पढ़ें...किस तरह 25 फीट गहरे कुएं में फंसा रहा चीतल, जान बचाने के लिए की छह घंटे मशक्कत

इन बड़ी बैंकों से पड़ा असर
इस बार हड़ताल में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया भी शामिल थी। जबकि हर बार वह हड़ताल से दूर रहती थी। इससे भी लेनदेन पर खासा असर पड़ा। इसके अलावा यूनियन बैंक, बैंक ऑफ इंडिया की दस से अधिक शाखाओं पर ताले लटके रहे। वहीं पंजाब नेशनल बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, केनरा बैंक और बैंक ऑफ महाराष्ट्र बंद रही।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned