नक्शे में परकोटे की दीवार से लगा रास्ता, वर्तमान में कई दुकानदारों का अतिक्रमण

- राजपूरा से 400मीटर तक है परकोटे से रास्ता
- राजस्व अफसर और पीडब्ल्यूडी ने किया सीमांकन

By: ranjeet pardeshi

Published: 03 Jan 2020, 11:28 AM IST

बुरहानपुर. इंदौर-इच्छापुर हाईवे पर परकोट से लगे रास्ते पर भारी अतिक्रमण इसे पूरी तरह रोक दिया गया। सीएम हेल्प लाइन पर जब इसकी शिकायत हुई तो अफसरों ने भी जांच की सुध ली। सीमांकन किया तो पटवारी शीट और डायवर्सन शीट में रकबे को लेकर थोड़ा अंतर आ गया, मिलान न होने के कारण आगे का सीमांकन रोक दिया गया। लेकिन इस रास्ते पर इलेक्ट्रिॉनिक्स, होटल व्यवसाय सहित कई दुकानदारों ने पीछे के रास्ते पर अपना कब्जा जमा लिया। किसी ने पक्का तो किसी ने दीवार तक खड़ी कर दी।
जांच के लिए पहुंचे पीडब्ल्यूडी अफसर ने माना की प्रथम दृष्ट्या अतिक्रमण है रास्ता रोका गया है। राजपूरा से ४०० मीटर तक यहां नक्शे में रास्ता दर्ज है। भवन मालिकों ने पीछे का रास्ता छोड़कर नया निर्माण तो किया है, लेकिन यह रास्ता अनुपयोगी होने के कारण पक्की दीवार खड़ी कर रास्ता रोक दिया गया। किसी ने ब्लॉक लगा दिए तो किसी ने अपना सामान जमाना शुरू कर दिया। जबकि होटल व्यवसाय ने तो यहां कीचन बनाकर रख दिया। इलेक्ट्रिॉनिक व्यवसाय ने तो प्राचीन दीवार तक पक्के टीन डाल दिए। बड़ी बात यह है कि मुय मार्ग पर यह सब अतिक्रमण होने के बाद भी राजस्व और पीडब्ल्यूडी और नगर निगम के अफसर चुप्पी साधे रहे, अब तक किसी ने इस ओर कार्यवाही की सुध नहीं ली। जब सीएम हेल्प लाइन पर शिकायत की गईतो सीमांकन के लिए पहुंचे। जबकि यह अतिक्रमण कईसमय से है, किसी अधिकारी ने ध्यान नहीं दिया तो पक्का अतिक्रमण यहां होता चला गया।
अब रास्ता बनाया भी तो उपयोग मुश्किल
बड़ी बात यह है कि अब अतिक्रमण हटाकर रास्ता बनाया भी तो यहां पैदल या वाहनों का आगमन मुश्किल होगा। प्राचीन परकोटे की दीवार भी पूरी तरह जर्जर हो चुकी है। यहां से आवागमन करना भी खतरे से खाली नहीं होगा। प्रशासन को पहले दीवार की रिपेयरिंग करानी होगी। इसके बाद यह आवागमन के उपयोग में आ सकता है।
१९७३-७४ के नक्शे से मिलान
आरआई सुरेश राय ने कहा कि सीमांकन आज पूरा नहीं हुआ है। पटवारी शीट और डायवर्सन शीट में रकबे को लेकर थोड़ा अंतर है, मिलान नहीं हो रहा है। पुरानी मिशल शीट पुराना बंदोबस्त हुआ था उस समय जो नक्शे बने थे और वर्तमान में जो नकशे है उसे देखेंगे। अधिकारी को यह पूरी जानकारी देंगे उनके मार्गदर्शन में फिर से सीमांकन होगा। यह जो नक्शे हमारे पास है १९७३-७४ के है। लेकिन जो नक्शे बनते हैं, वह पुराने देखकर ही नए तैयार होते हैं। सीएम हेल्प लाइन पर शिकायत की गईथी, एसडीएम के आदेश पर हमने यह सीमांकन शुरू किया।
हाईवे किनारे भी अतिक्रमण
दुकानदारों ने परकोटे से लगे रास्ते पर तो अतिक्रमण किया है साथ में हाईवे को भी नहीं छोड़ा। हाईवे किनारे ाी अपना सामान पसरा कर रखा है। दुकानदारों ने तारफेंसिंग तक कर दी, उनका सामान दिन रात यहां पड़ा रहता है। किसी अफसर ने यहां अतिक्रमण हटाने की हिमत तक नहीं जुटाई।
- पुराना मार्ग है, सीमांकन के लिए एसडीएम ने टीम बनाई है। सीमांकन के बाद पता चलेगा कितना अतिकमण है। रास्ता बंद है प्रथम दृष्टया अतिक्रमण दिख रहा है। देरी होने के कारण रोडअनुपयोगी था। रोडकिसके अंडर में है इसे लेकर भी कंयूजन था। - आरके सोनी, एसडीओ पीडब्ल्यूडी

ranjeet pardeshi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned