अर्थव्यवस्था में सुधार से कंपनियों के मुनाफे में आया रेकॉर्ड उछाल

- खर्च नियंत्रित करने की कोशिश लाई रंग: दिसंबर तिमाही में मुनाफा 68.7 फीसदी तक बढ़ा, कंपनियों के रेवेन्यू और प्रॉफिट में हिस्सेदारी क्रमश: 18.6 प्रतिशत और 13.5 प्रतिशत रही।
- 3,807 कंपनियों के सैंपल के नतीजों का किया विश्लेषण।

By: विकास गुप्ता

Published: 16 Feb 2021, 02:57 PM IST

नई दिल्ली। कोरोना काल में बुरी तरह प्रभावित हुई भारतीय अर्थव्यवस्था अब सुधार की ओर है। भारतीय कंपनियों द्वारा लगातार दूसरी तिमाही में शानदार मुनाफा कमाना इस बात की गवाही दे रहा है। दिसंबर तिमाही में ज्यादातर कंपनियों के नतीजे अनुमान से बेहतर रहे। कंपनियों के मैनेजमेंट को आगे भी मुनाफे में अच्छी ग्रोथ की उम्मीद दिखी है। 3,807 कंपनियों के सैंपल के नतीजों के विश्लेषण से पता चला है कि दिसंबर तिमाही में उनका मुनाफा साल दर साल आधार पर 68.7 फीसदी बढ़ा। यह पिछली 9 तिमाहियों में मुनाफे में सबसे ज्यादा वृद्धि है। एक दशक में सबसे अच्छे नतीजे: विशेषज्ञों का मानना है कि तीसरी तिमाही के नतीजे एक दशक में सबसे अच्छे हैं। खर्च को नियंत्रित करने के उपाय और फेस्टिव सीजन की मांग से कंपनियों को बेहतर प्रदर्शन करने में मदद मिली है।

सुधारी बैलेंस शीट-
बिक्री और मुनाफे में अच्छी ग्रोथ के साथ ही कर्ज के बोझ से दबी कई कंपनियों ने बेहतर कैश फ्लो का इस्तेमाल अपनी बैलेंस शीट सुधारने के लिए किया। अल्ट्राटेक, जेएसपीएल, हिंडाल्को और टाटा स्टील ने पिछले साल अप्रेल से दिसंबर की अवधि में अपने कर्ज में कमी लाने की लगातार कोशिश की। इस दौरान कंज्यूमर से सीधे तौर पर जुड़ी कंपनियों ने अच्छा प्रदर्शन किया।

- 68.7 प्रतिशत बढ़ा दिसंबर तिमाही में मुनाफा।
- 9 पिछली तिमाहियों में सबसे ज्यादा वृद्धि देखी गई।
- 18.6 प्रतिशत रही है कंपनियों की रेवेन्यू में हिस्सेदारी।
- 13.5 प्रतिशत रही है कंपनियों की लाभ में हिस्सेदारी।
- विशेषज्ञों ने कंपनियों के नतीजों को एक दशक में बताया सबसे अच्छा।

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned