टाटा ने इलैक्ट्रिक टिगोर के पहले लॉट को मैन्युफैक्चरिंग प्लांट से रवाना किया

टाटा ने इलैक्ट्रिक टिगोर के पहले लॉट को मैन्युफैक्चरिंग प्लांट से रवाना किया

Kamal Rajpoot | Publish: Dec, 08 2017 09:26:02 AM (IST) कार

टॉटा की पॉपुलर कार टिगोर का इलैक्ट्रिक वर्जन बनकर तैयार हो गया है। बता दें इसे गुजरात के सानंद प्लांट में बनाया गया है।

देश की प्रमुख वाहन निर्माता कंपनी टाटा मोटर्स ने आधिकारिक तौर पर अपने इलैक्ट्रिक व्हीकल का पहला बेच मैन्युफैक्चरिंग प्लांट से रोलआउट कर दिया है। टॉटा की पॉपुलर कार टिगोर का इलैक्ट्रिक वर्जन बनकर तैयार हो गया है। बता दें इसे गुजरात के सानंद प्लांट में बनाया गया है।

जानकारी के लिए बता दें टाटा मोटर्स ईईएसएल का हिस्सा भी है और कंपनी अपने पहले फेस में 10,000 इलैक्ट्रिक कारें बनाकर देगी। लैटर ऑफ अथॉरिटी के हिसाब से टाटा मोटर्स को 250 इलैक्ट्रिक टिगोर तैयार करके देनी हैं, इसके अलावा कंपनी 100 और कारें बनाकर देगी क्योंकि ईईएसएल जल्द ही इसे लेकर एक और लैटर ऑफ अथॉरिटी जारी करने वाली है। मैन्युफैक्चरिंग प्लांट से इलैक्ट्रिक टिगोर कार को टाटा ग्रुप के चैयरमैन रतन टाटा और टाटा मोटर्स के सीईओ और एमडी ग्वेंटर बस्चेक की मौजूदगी में हरी झंडी दिखाई गई।

इस कार्यक्रम में चंद्रशेकरन ने बताया कि, यह मौका टाटा समूह के लिए एक मील का पत्थर है और पूरी टीम के लिए ये गर्व की बात है। जैसा कि हम भारत में ऑटोमोबाइल के भविष्य ई-मोबिलिटी पर काम कर रहे हैं, हमें विश्वास है कि भारत की जनता भी हमारे वाहनों को जरूर पसंद करेगी। उन्होंने कहा कि इस उपलब्धि के लिए टाटा मोटर्स की पूरी टीम बधाई की पात्र है।

अगर कार के लुक पर गौर फरमाए तो इस कार में ज्यादा बदलाव नजर नहीं आ रहा है। इसका अधिकतर लुक टाटा की स्टैंडर्ड टिगोर से मिलता झुलता ही है। इस कार में इसकी ग्रिल पर ईवी बैज लगा हुआ नजर आ रहा है। इसके अलावा कार में सबसे बड़ा बदलाव हुआ है और वो पावरट्रेन का है। टाटा ने इस कार में इलैक्ट्रिक ड्राइव सिस्टम लगाया गया है जो इलैक्ट्रा ईवी द्वारा बनाया और सप्लाई किया जाता है।

बता दें इलैक्ट्रा ईवी एक कंपनी है जो ऑटोमोबाइल सैक्टर के लिए इलैक्ट्रिक ड्राइव सिस्टम डेवेलप और सप्लाई करती है। इस कंपनी का कहना है कि यह भारत सरकार के 2030 तक इलैक्ट्रिक व्हीकल विज़न को आगे बढ़ाने का काम कर रही है।

Ad Block is Banned