कनेक्टेड टेक्नोलॉजी वाली इन कारों के लोग हैं दीवाने, तेजी से हो रही हैं पॉपुलर

कनेक्टेड कार टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल सबसे पहले 1996 में किया गया था । लेकिन लग्जरी कारों में इस्तेमाल होने वाली ये टेक्नोलॉजी अब आम कारों में इस्तेमाल होने लगी है ।

By: Pragati Bajpai

Updated: 06 Mar 2020, 02:32 PM IST

नई दिल्ली: कनेक्टेड टेक्नोलॉजी कारों की दुनिया में तेजी से पापुलर हो रही है । पिछले साल इन कारों से लैस हुई कारें लोगों के बीच काफी पसंद की गई यही वजह है कि कि आने वाले वक्त में कंपनियां ज्यादा से ज्यादा ऐसी कारों को लाने का प्लान कर रही हैं। चलिए आपको बताते हैं कि कनेक्टेड कार टेक्नोल़ॉजी होती क्या है और फिलहाल मार्केट में कौन सी कंपनियां कारें इस टेक्नोलॉजी पर काम कर रही है।

कनेक्टेड कार टेक्नोल़ॉजी- कनेक्टेड कार टेक्नोलॉजी में कार टेक्नोलॉजी के माध्यम से कार के बाहर वाली दुनिया से भी डायरेक्ट कनेक्ट कर सकती है । इस टेक्नोलॉजी के माध्यम से कार इंटरनेट से जुड़ी होती है है और इसके माध्यम से डेटा वर्ल्ड से जुड़ी होती है।

Honda ने लॉन्च किया फेसलिफ्ट WR-V का टीजर, सामने आए फीचर्स

hyundai_venue.jpg

ब्लू लिंक टेक्नोलॉजी - हुंडई ने VENUE कार में सबसे पहले इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया था और मार्केट में इस कार को बेहद पसंद किया था । इस कार की पॉपुलैरिटी का एक बहुत बड़ा कारण ये टेक्नोलॉजी थी । फिलहाल मार्केट में Hyundai Venue के अलावा Elantra में भी इसी टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जा रहा है और खबरों की मानें तो नेक्स्ट जनरेशन CRETA भी इस टेक्नोलॉजी से लैस होगी ।

आपको बता दें कि वेन्यू और एलांट्रा में इस टेक्नोलॉजी से 33 फीचर्स मिलते हैं लेकिन क्रेटा में इनकी संख्या 50 तक हो सकती है। इस टेक्नोलॉजी के माध्यम से रिमोट क्लाइमेट कंट्रोल, ऑटो क्रैस नोटिफिकेशन, स्पीड अलर्ट, रोड साइड असिस्टेंस, स्टोलेन व्हीकल इम्मोबिलाइजेशन, लाइव ट्रैफिक, जिओ-फेंस अलर्ट, लाइव कार लोकेशन शेयरिंग, पुश मैप बाई कॉल सेंटर और वॉइस रेकॉग्निशन जैसे फीचर्स दिए गए हैं।

अप्रैल से कार और बाइक बीमा के लिए चुकानी होगी ज्यादा रकम, जानें नई बीमा राशि

Inext टेक्नोलॉजी - इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल एमजी मोटर्स अपनी कारों में कर रही है । एमजी हेक्टर भारत में कंपनी की पहली कार है जो टेक्नोलॉजी से लैस है। Inext टेक्नोलॉजी के माध्यम से मैप और नेविगेशन सर्विस, वॉइस एसिस्टेंट, प्री-लोडेड इंफोटेनमेंट कन्टेंट, एमरजेंसी सर्विस और बिल्ट इन ऐप जैसे फीचर्स इस कनेक्टेड तकनीक में 50 से भी ज्यादा फीचर्स दिए हैं।

kicks.jpg

Nissan- निसान ने हाल ही में लॉन्च हुई अपनी कार किक्स में इसका इस्तेमाल किया है। इसके माध्यम से एसओएस, ट्रैक और ट्रेस, टो-अवे अलर्ट, व्हीकल लो-बैटरी अलर्ट, ऑटोमेटेड इम्पैक्ट अलर्ट जैसे फीचर्स तो मिलते ही हैं इसके अलावा सडन ब्रेक अलर्ट, कर्फ्यू अलर्ट और जिओ फेंसिंग जैसे फीचर्स भी दिए गए हैं ।

Pragati Bajpai Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned