गाड़ी को कूल दिखाने के लिए भूलकर भी न करवाएं ये कोटिंग, नहीं तो कटेगा चालान

रैप कराने की तुलना गाड़ी को दोबारा पेंट करवाने से नहीं हो सकती। और तो और गर्मी या तेज बारिश और ठंड से यह परत खराब होने का डर रहता है।

By: Pragati Bajpai

Updated: 04 Mar 2020, 04:38 PM IST

नई दिल्ली: बाइक हो या कार हर कोई चाहता है कि उसकी गाड़ी भीड़ में अलग दिखे । इसके लिए लोग अपनी कार और बाइक को मोडिफाई कराते हैं। लेकिन आजकल विनाइल कोटिंग का ट्रेंड भी चल रहा है। विनाइल कोटिंग कूल और अलग दिखने का एक आसान तरीका है। लेकिन विनाइल कोटिंग कराने से पहले कुछ बातों को जानना बेहद जरूरी होता है। क्योंकि इससे जुड़ी कई ऐसी बातें हैं जिसकी वजह से ये आपके लिए मुश्किल हो सकता है।

कंपनी फिटेड CNG या ऑफ्टर मार्केट किट ? कौन सी किट लगवाना है फायदेमंद

टेम्परेरी होती है विनाइल कोटिंग- विनाइल कोटिंग की परत कुछ वक्त के लिए होती है, इसकी ड्यूरेबिलिटी बहुत लंबे वक्त तक नहीं होती। आपको बता दें कि रैप कराने की तुलना गाड़ी को दोबारा पेंट करवाने से नहीं हो सकती। और तो और गर्मी या तेज बारिश और ठंड से यह परत खराब होने का डर रहता है। और अगर ठीक से ध्यान न रखा जाए तो ये परत कभी भी उखड़ सकती है। उधड़ी हुई रैपिंग से बुरा शायद ही कुछ लगता हो।

कट सकता है चालान- गाड़ी के रजिस्ट्रेशन कार्ड पर कार का रंग लिखा होता है। अगर रैप दूसरे रंग का होगा तो यह नियम के खिलाफ माना जाएगा और आपका चालान कटना तय है। इसके अलावा गाड़ी चोरी होने पर भी यह बदला रंग दिक्कत दे सकता है।

प्रोडक्शन बंद होने के बाद रतन टाटा ने बताई, Nano बनाने के पीछे की कहानी

किसी अच्छी जगह से कराए कोटिंग- जिस किसी को भी इस काम की जिम्मे दारी दें, उसका पुराना काम जरूर देख लें। क्योंकि रैप से गाड़ी का ओरिजनल रंग भी खराब हो जाता है।

Pragati Bajpai
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned