HRD minister 28 मई को उच्च शिक्षा संस्थानों को करेंगे संबोधित

मानव संसाधन विकास (HRD) मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक 28 मई को दोपहर 3 बजे 45,000 उच्च शिक्षा संस्थानों के साथ एक लाइव बातचीत करेंगे। सहभागिता का मूल्यांकन राष्ट्रीय मूल्यांकन और प्रत्यायन परिषद (NAAC) द्वारा किया जा रहा है।

By: Jitendra Rangey

Published: 26 May 2020, 11:06 AM IST

मानव संसाधन विकास (HRD) मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक 28 मई को दोपहर 3 बजे 45,000 उच्च शिक्षा संस्थानों के साथ एक लाइव बातचीत करेंगे। सहभागिता का मूल्यांकन राष्ट्रीय मूल्यांकन और प्रत्यायन परिषद (NAAC) द्वारा किया जा रहा है।

मंत्री ने कोरोनावायरस महामारी से उत्पन्न होने वाले स्थिति के बारे में बात की जाएगी और यह कैसे संस्थानों द्वारा अवसरों में बदल सकता है इसको लेकर चर्चा होगी। यह बात उन्होंने एक ट्वीट के माध्यम से सूचित की। भारत में सभी उच्च शिक्षा संस्थान कोरोनावायरस महामारी के कारण मार्च के मध्य से बंद हैं।

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) को विभिन्नताओं को लेकर फिर से खोलने के लिए दिशा-निर्देश तैयार करने का निर्देश दिया गया है। दिशानिर्देशों ने उच्च शिक्षा संस्थानों को अगस्त से नामांकित छात्रों के लिए सामाजिक गड़बड़ी के बीच कक्षाएं खोलने के लिए कहा था। यूजीसी ने सितंबर तक एक नया बैच शुरू करने की सिफारिश की, हालांकि, प्रवेश को लेकर बहुत अनिश्चितता है।

एक वीडियो संदेश में, एचआरडी ने कहा, “भारत में 33 करोड़ छात्रों के साथ लगातार संवाद करना एक चुनौती है और विश्वविद्यालय एकजुट हो गए हैं और ऑनलाइन शिक्षा के माध्यम से छात्रों को शिक्षित करने के लिए कदम उठा रहे हैं। मैं इन प्रतिकूल परिस्थितियों में भी छात्रों को प्रेरित और प्रेरित रहने के लिए आपके योगदान के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं। ”

उन्होंने कहा, “हम अपनी शिक्षा प्रणाली को आगे बढ़ने या रोकने की अनुमति नहीं देंगे। मैं भी आपके सुझाव का इंतजार कर रहा हूं और आपके अनुभव से लाभ उठाने की कोशिश करूंगा।

बातचीत का उद्देश्य डिग्री कॉलेजों के शिक्षकों और वरिष्ठ अधिकारियों पर होगा। इससे पहले, एचआरडी मंत्री ने शिक्षकों, छात्रों और अभिभावकों के साथ बातचीत की थी। बातचीत का प्रसारण मंत्री के फेसबुक और ट्विटर हैंडल दोनों पर किया जाएगा।

यूजीसी द्वारा सुझाए गए नए मानदंडों में, सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (आईसीटी) में प्रशिक्षण शिक्षक और ऑनलाइन शिक्षा जारी रखना प्रमुख कारकों में से हैं। इसमें कॉलेजों को 5-दिवसीय कार्य करने का सुझाव भी दिया गया।

यदि छात्रों या विश्वविद्यालयों या अन्य हितधारकों के पास कोई प्रश्न या सुझाव है, तो उन्हें रमेश पोखरियाल निशंक या मानव संसाधन विकास मंत्रालय के सोशल मीडिया हैंडल पर लिखना होगा।

Jitendra Rangey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned