NCERT की पहल : अब बच्चों को सिखाया जाएगा बिल बनाना

Jameel Khan

Publish: Oct, 12 2017 10:04:05 (IST)

Career Courses
NCERT की पहल : अब बच्चों को सिखाया जाएगा बिल बनाना

अब कक्षा तीन से ही बच्चों को मूल्य सूची, बिल बनाना सिखाया जाएगा।

देहरादून। अब कक्षा तीन से ही बच्चों को मूल्य सूची, बिल बनाना सिखाया जाएगा। कक्षा तीन के बच्चों में गणित के प्रति दिलचस्पी बढ़ाने के लिए यह नई व्यवस्था की जा रही है। एनसीईआरटी ने इसके लिए हाल ही में सीखने के नए नियमों का सर्कुलर जारी किया है। अब शिक्षकों को गणित सिर्फ पहाड़ा याद कराकर या जोडऩे-घटाने तक सीमित नहीं रखना है। गणित को रुचिकर बनाने के लिए खेलकूद, घरेलू कामकाज में इसके फार्मूले को जोडऩे के लिए कहा गया है। कक्षा तीन के बच्चों से विभिन्न वस्तुओं के मूल्य दर का चार्ट तथा सामान्य बिल बनाने का तरीका भी सिखाने के लिए कहा गया है।

दरअसल, राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण के तहत कक्षा तीन, पांच और आठ के छात्रों को शामिल किया गया है। इसमें गणित की भी परीक्षा ली जाएगी। इस बात को ध्यान में रखते हुए एनसीईआरटी गणित को रुचिकर विषय बनाने के लिए नए लर्निंग आउटकम तय किए हैं। इसी लिहाज से प्रक्रिया के मानक तय किए गए हैं।

 

इतिहास की किताबों में कोई बदलाव नहीं होगा : एनसीआरटी
नई दिल्ली। राष्ट्रीय शैक्षणिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद् (एनसीआरटी) इतिहास की किताबों में कोई बदलाव करने नहीं जा रही है और नई शिक्षा नीति बनने के बाद ही वह पाठ्यचर्या तैयार करेगी जिसके आधार पर ही किताबों में कोई बदलाव किया जाएगा। एनसीआरटी के निदेशक ऋषिकेश सेनापति ने एक साक्षात्कार में यह जानकारी दी। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि एनसीआरटी की कुल 182 किताबों की समीक्षा के दौरान मिले सुझावों और आंकड़ों तथा नवीनतम जानकारियों के आधार पर 1334 परिवर्तन किए जाने हैं, लेकिन वे सब गलतियां नहीं हैं जैसा कि पिछले दिनों अ$खबारों में छपा।

यह कहे जाने पर कि संघ परिवार से जुड़े शिक्षक नेता दीनानाथ बत्रा ने एनसीआरटी की किताबों में पढ़ाए जाने वाले इतिहास पर आपत्ति की थी और उसमे परिवर्तन किए जाने का सुझाव भी दिया था जिसको लेकर काफी विवाद भी हुआ था, क्या उस सम्बन्ध में कोई बदलाव किया जा रहा है, सेनापति ने कहा कि बत्रा का कोई पत्र ही हमें नहीं मिला, इसलिए उनका कोई सुझाव हमें प्राप्त नहीं हुआ।

उन्होंने कहा इसलिए इतिहास की किताबों में कोई बदलाव करने का सवाल ही नहीं उठता। यह पूछे जाने पर कि क्या एनसीआरटी के कामकाज पर संघ या सरकार की ओर से कोई दवाब काम करता है या किसी तरह का कोई हस्तक्षेप है तो उन्होंने कहा कि इस तरह का कोई दबाव उन पर कभी नहीं आया। हम लोग स्वतंत्र ढंग से काम कर रहे हैं। इसलिए किताबों से कोई सामग्री हटाई नहीं गई।

यह पूछे जाने पर कि इन किताबों की समीक्षा होने के बाद नई किताबें कब तक छप जाएंगी, उन्होंने कहा कि अगले वर्ष नए एकेडमिक सत्र से ये किताबें तैयार हो जाएंगी। उन्होंने बताया कि एनसीआरटी को ऑनलाइन 920 सुझाव मिले थे इनमे वास्तविक सुझाव तो 221 ही थे, जबकि 345 तथ्य और आंकड़े अपडेट करने हैं। मसलन अब नए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद हो गए तो अब किताबों में से पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मु$खर्जी का नाम हट जाएगा। नई जनगणना के अनुसार कई आंकड़े भी बदल जाएंगे।

उन्होंने कहा कि किताबों में जो गलतिया हैं भी वे बहुत मामूली हैं और उनमें अधिकतर छपाई की भूले हैं। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति बनने के बाद ही नई पाठ्यचर्या तैयार की जाएगी और उसके आधार पर ही नई किताबें फिर से तैयार होंगी, इसलिए अभी उनके बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता कि किताबों में किस तरह के बदलाव होंगे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned