योगी आदित्यनाथ के खिलाफ सत्ताधारी विधायक ने ही खोला मोर्चा, लगाए ये आरोप

योगी आदित्यनाथ के खिलाफ सत्ताधारी विधायक ने ही खोला मोर्चा, लगाए ये आरोप

Mohd Rafatuddin Faridi | Publish: Jan, 14 2019 09:49:20 PM (IST) | Updated: Jan, 14 2019 09:49:21 PM (IST) Chandauli, Chandauli, Uttar Pradesh, India

विधायक ने कहा नहीं सुनी जा रही मेरी शिकायत, कहा 23 जनवरी को देंगे धरना।

सोनभद्र . उत्तर प्रदेश में 2019 के पहले भाजपा की मुश्किलें कम होने के बजाय लगातार बढ़ती ही जा रही हैं। दो सहयोगी पार्टियों की नाराजगी झेल रही भाजपा को एक और तगड़ा झटका तब लगा जब सत्ताधारी दल के विधायक ने ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। विधायक ने आरोप लगाया है कि अवैध खनन करने वाले बालू ठेकेदारों को मुख्यमंत्री का संरक्षण मिला हुआ है। उनका कहना है कि बालू खनन पूरी तरह से नियमों को ताक पर रखकर किया जा रहा है। दावा किया कि अवैध खनन को लेकर वह कई बार मुख्यमंत्री को पत्र लिख चुके हैं, लेकिन इसे हर बार नजरअंदाज कर दिया गया। चेतावनी दी है कि इसके खिलाफ अब वह बेहेरडोल सामुदायिक भवन पर धरना देंगे जिसमें सभी दलों का उन्हें सहयोग मिल रहा है। उन्होंने बीते नौ जनवरी को कोन थानाक्षेत्र के बरहमोहरी बालू साइड पर हर्रा गांव में ठेकेदारों और ग्रामीणों के बीच बवाल की सीबीआई जांच की मांग किया है। कहा कि उन्हें कुछ ग्रामीणों ने बताया है कि ठेकेदारों द्वारा वहां का महिलाओं और युवतियों संग बलात्कार भी किया जाता है।

 

मुख्यमंत्री के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले विधायक बीजेपी की नाराज सहयोगी पार्टी अपना दल एस के दुद्धी विधायक हरिराम चेरो हैं। चेरो ने सोमवार को मीडिया के सामने आकर अवैध बालू खनन को लेकर मुख्यमंत्री को कटघरे में खड़ा किया। दावा किया कि सोनभद्र की कनहर नदी में खोखा गांव के अखिलेश कुमार के नाम से अप्रैल 2018 में बालू की खदान नियमों के विरुद्ध आवंटित की गयी।

 

खोखा में बालू ठेकेदार भारी मात्रा में अवैध खनन कर रहे हैं। नदी से सीधे पोकलेन मशीनों से लोडिंग करायी जा रही है, जिससे नदी में 20 से 30 फीट तक गड्ढे हो चुके हैं। सीमांकन क्षत्र से हटकर नदी की बीच धारा मोड़कर अस्थायी पुल बनाकर बांध दिया गया है। 24 घंटे अवैध खनन बेरोकटोक किया जा रहा है। अवैध बालू के ओवरलोडिंग का हाल ये है कि पीडब्ल्यूडी की 10 टन क्षमता वाली सड़क पर 30 से 50 टन लोडेड बालू गाड़ियां चल रहीं हैं।

 

इस बाबत जिलाधिकारी से लेकर मुख्यमंत्री तक को अवगत कराया गया, लेकिन कुछ हुआ नहीं। बारहमोरी बालू साइड, व खेवन्धा में अवैध खनन को लेकर मुख्यमंत्री से शिकायत के बावजूद सुनवायी नहीं हुई तो अब प्रधानमंत्री, एनजीटी और मंत्रालय को पत्र लिखा गया है। दावा किया कि बालू ठेकेदार फर्जी केस में फंसाने की धमकी दी दे रहे हैं।

By Santosh

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned