जर्जर हो चुके रेलवे आवास को गिराया गया, अवैध कब्जा कर रह रहे थे लोग

Akhilesh Kumar Tripathi

Updated: 23 Aug 2018, 09:25:47 PM (IST)

Varanasi, Uttar Pradesh, India

railway colony house demolished

1/2

रेलवे कॉलोनी के जर्जर आवास को गिराया गया

चंदौली. मुग़लसराय रेल प्रशासन ने यूरोपियन कॉलोनी, प्लांट डिपो कारखाना मार्ग पर स्थित सौ साल पुराने रेलवे आवास को जेसीबी मशीन लगाकर गुरुवार को तोड़ दिया। रेलवे की इस कार्रवाई का अवैध रुप से रहने वाले लोगों ने विरोध किया, लेकिन आरपीएफ तेवर के कारण एक न चली। आरपीएफ के डांट फटकार के बाद उक्त आवास में रहने वाले लोग आनन फानन में सामान निकाल लिए। रेल प्रशासन ने कुछ दिन पूर्व ही आवास खाली करने की चेतावनी दी थी, लेकिन अवैध रुप से रहने वाले हटने का नाम नहीं ले रहे थे।

मुगलसराय रेलवे के यूरोपियन कॉलोनी में अंग्रेज अधिकारी रहते थे। इस दौरान आवास में काम करने वालों के लिए आउट हाउस का निर्माण 1910 में कराया था। इसमें चतुर्थश्रेर्णी के कर्मचारी रहते थे। वहीं आजादी के बाद भी उक्त आवास में रेलकर्मी रहने लगे। सौ साल पुराना आवास होने के कारण काफी जर्जर हो गया था। इस दौरान रेल प्रशासन ने कंडम घोषित कर दिया। इससे किसी रेलकर्मी को एलाट नहीं किया गया।

इसी दौरान उक्त आवासों में दर्जनों बाहरी लोग कब्जा जमाकर परिवार सहित रहने लगे। इसके लिए रेल प्रशासन कई बार प्रयास भी किया, लेकिन सफलता नहीं मिली। कुछ दिन पूर्व आवास खाली कराने गये एक आईओडब्ल्यू को एक महिला का कोप भाजन बनना पड़ा। गुरुवार को मंडल अभियंता एसके राय, सहायक कमानडेंंट एसके सिंह, आरपीएफ इंस्पेक्टर वीएन मिश्रा, एसआई जीएस राणा दर्जनभर जवानों के साथ आवास संख्या 12, ए, बी, सी, डी ब्लॉक में रहने वालों को आवास खाली करने को कहा। हालांकि इस दौरान विरोध भी हुआ। लेकिन आरपीएफ की सख्ती के आगे किसी की एक न चली। सभी आवास को खाली कराकर जेसीबी से धरासाई कर दिया गया।

 

BY- SANTOSH JAISWAL

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned