बड़ी खबर : अब चंदौली में मूर्ति रखने को लेकर हुआ बवाल

Ashish Kumar Shukla

Publish: Feb, 04 2018 09:55:45 PM (IST) | Updated: Feb, 04 2018 09:55:46 PM (IST)

Chandauli, Uttar Pradesh, India

Stress in Chandauli

1/4

मूर्ति रखने पर बवाल

धानापुर. थाना क्षेत्र के आवाजापुर गांव में दलित वर्ग के लोगों ने अखाड़े के नाम आवंटित ग्राम समाज की भूमि पर संत रविदास की मूर्ति रख दिया। जिसे लेकर गांव में तनाव व्याप्त हो गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने लाठी भांजकर उग्र लोगों को खदेड़ दिया, और विवादित मूर्ति थाने उठा ले आई। गांव में उपजे बवाल को देख कई थानों की पुलिस और पीएसी के जवान देर शाम तक डेरा जमाए रहे।

जानकारी के अनुसार आवाजापुर गांव में पिछले कई वर्षों से संत रविदास का पूजा समारोह आयोजित होता रहा है। लेकिन अबकी बार पूजा के बहाने शरारती तत्वों ने अखाड़ा के नाम आवंटित ग्राम समाज की भूमि पर मूर्ति स्थापित कर गांव का माहौल अशांत कर दिया। बवाल उस वक्त बढ़ गया जब दलित समाज के लोग मिट्टी की मूर्ति का विसर्जन करने के बजाय उसे स्थाई रूप देने में जुट गए। और मूर्ति के ऊपर छप्पर लगाने लगे। ऐसा देख गांव के दूसरे पक्ष के लोग विरोध करने लगे। लेकिन जब मामला शांत होने के बजाय तनावपूर्ण होने लगा, तो लोगों ने पुलिस को सूचना दे दी। 100 नंबर की पुलिस पहुंची, लेकिन वह दलित महिलाओं का उग्र रूप देख वहां से निकल भागी। इस बीच मामला गंभीर होता देख एसओ अखिलेश सिंह ने तत्काल एस पी संतोष कुमार सिंह एवं सीओ त्रिपुरारी पांडेय को मामले से अवगत करा दिया। जिसका असर यह हुआ कि कुछ ही समय में आवाजापुर गांव पुलिस छावनी में तब्दील हो गया। सकलडीहा कोतवाल तेजबहादुर सिंह, धीना थानाध्यक्ष स्वामीनाथ, महिला थाना प्रभारी सरिता सिंह सहित डेढ़ सेक्शन पीएसी के जवान मौके पर पहुंच गए और स्थिति को नियंत्रण करने में जुट गए। इसी बीच मौका देखकर धानापुर एसओ ए के सिंह ने तत्काल संत रविदास की मूर्ति को कब्जे में लेकर थाने भिजवा दिया। और धार्मिक उन्माद फैला रहे दलितों को जबरन खदेड़ दिया। फिलहाल अभी तक इस मामले में कोई मुकदमा तो दर्ज नहीं हुआ है, लेकिन पुलिस अभी भी प्रकरण के जांच में जुटी है। एसओ अखिलेश सिंह ने बताया कि अखाड़ा के नाम दो डिसमिल जमीन आवंटित है। जिसपर अनधिकृत रूप से मूर्ति रखकर कुछ लोग माहौल बिगाड़ने की कोशिश कर रहे थे। लेकिन समय रहते कोशिश की गई, और बड़ा संघर्ष टल गया। दोनो पक्षों को बुलाकर बातचीत की जा रही है। मामला शांत करा दिया जाएगा।

 

 

By : Santosh Kumar

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned