पंजाब में जहरीली शराब से 30 लोगों की मौत, मची खलबली, मजिस्ट्रेटी जांच का आदेश

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अमृतसर, बटाला और तरनतारन में शराब पीने से हुई मौतों के मामले में जालंधर के डिविजनल कमिश्नर को न्यायिक जांच करने के आदेश दिए हैं।

By: Bhanu Pratap

Published: 31 Jul 2020, 07:11 PM IST

तरनतारन/ अमृतसर/गुरदासपुर। पंजाब के तीन जिलों में दो दिन में जहरीली शराब पीने से 30 लोगों की मौत हो गई। मरने वाले तरनतारन, अमृतसर और गुरदासपुर जिले के हैं। पहले दिन अमृतसर में पांच लोगों की मौत हो गई थी, जिनका अंतिम संस्कार पुलिस को सूचना दिए बगैर कर दिया था। शुक्रवार को 25 और लोगों ने दम तोड़ दिया। पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने पूरी मामले की मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश दिए हैं। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अमृतसर, बटाला और तरनतारन में शराब पीने से हुई मौतों के मामले में जालंधर के डिविजनल कमिश्नर को न्यायिक जांच करने के आदेश दिए हैं। इस जांच में ज्वाइंट एक्सरसाइज एंड टैक्सेशन कमिश्नर और संबंधित जिलों के पुलिस अधीक्षक भी शामिल होंगे। सरकार ने 21 मौतों की बात कही है।

कहां कितनी मौतें

तरनतारन में 15, अमृतसर में आज दो समेत नौ और बटाला (जिला गुरदासपुर) में आज दो समेत छह लोगों की मौत हुई है। पंजाब पुलिस के महानिदेशक दिनकर गुप्ता ने एक बयान में कहा है कि इन लोगों की मौत देसी ढंग से घरों में तैयार की गई अवैध शराब पीकर हुई है। मौत के पहले पांच मामले अमृतसर ग्रामीण क्षेत्र में मुच्छल और टांगरा गांव में सामने आए थे। इस मामले में मृतकों में गांव मुच्छल के मंगल सिंह, बलविंदर सिंह, दलबीर सिंह, गुरप्रीत सिंह, कश्मीर सिंह ,काका सिंह ,कृपाल सिंह ,जसवंत सिंह , जोगा सिंह के अलावा कांगड़ा गांव के बलदेव सिंह शामिल हैं। बटाला शहर में बूटा राम, भिंडा , रिंकू सिंह, काला, कालू , बिल्ला और जितेंद्र की मौत हुई है। बटाला में मारे गए लोगों में गांव नौरंगाबाद निवासी धर्म सिंह, साहिब सिंह, तेजा सिंह, हरबंस सिंह, सुखदेव सिंह, गांव मल्लमोहरी निवासी मिट्ठू सिंह, नाजर सिंह (पिता-पुत्र), जोधपुर निवासी मिट्ठू सिंह, भुल्लर निवासी प्रकाश सिंह, गांव बचड़े गुरमेल सिंह के अलावा तरनतारन निवासी रंजीत सिंह, हरजीत सिंह, हरजीत सिंह हीरा, भाग मल्ल सिंह, अमरीक सिंह शामिल है। डीसी कुलवंत सिंह धूरी का कहना है कि मामले की जांच के आदेश दिए गए है।

आँखों की रोशनी भी गई

तरनतारन के गांव रटौल में गत दिवस अवैध देसी शराब पीने से तीन लोगों की मौत हो गई। एक व्यक्ति की आंखों की रोशनी चली गई थी। यहां भी पीडि़त परिवारों ने भी पुलिस को सूचित किए बिना ही शवों का अंतिम संस्कार कर दिया था।

अमृतसर में 19 की मौत का दावा, थानेदार निलंबित

जहरीली शराब पीने से अब तक अमृतसर के थाना तरसिक्का के अंतर्गत आते गांव मुच्छल में 7 लोगों की मौत हो चुकी है।इसके बाद अमृतसर देहाती के एसएसपी विक्रमजीत सिंह दुग्गल ने थाना तरसिक्का के एसएचओ बिक्रमजीत सिंह को सस्पेंड कर दिया है बलविंदर कौर जो कि गांव में अल्कोहल से शराब बनाने का काम करती है से शराब पीकर 7 लोग मर चुके हैं और चार लोग अभी गंभीर बने हुए है। बुधवार रात को अमृतसर के मुच्छल गांव में 8 लोगों की तबीयत खराब हो गई थी। इन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया, जहां 8 लोगों की मौत हो गई। इसके बाद गुरुवार को फिर 4 लोगों की मौत हुई। उध्र, तरनतारन में भी 7 लोगों की जहरीली शराब पीने से मौत हो गई। 19 लोगों की मौत के बाद प्रशासन हरकत में आया। अमृतसर के एसएसपी विक्रमजीत दुग्गल ने थाना प्रभारी बिक्रमजीत सिंह को सस्पेंड करते हुए एसपी (डी) गौरव तुर्रा की अध्यक्षता में सदस्यीय एसआईटी बना दी है।

poisonous liquor
Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned