पंजाब "आप" प्रदेश अध्यक्ष भगवन्त मान बोले-ज्यादा मजूबत होकर उभरेगी आम आदमी पार्टी

पंजाब

Prateek Saini | Publish: Aug, 12 2018 02:10:24 PM (IST) Chandigarh, Punjab, India

मान ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि नदी जल पर सिर्फ पंजाब का हक है...

(चंडीगढ): आम आदमी पार्टी पंजाब के प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद भगवन्त मान ने शनिवार को आशा व्यक्त की कि अभी उठ रही धूल जल्दी ही बैठ जाएगी और आम आदमी पार्टी और मजबूत होकर उभरेगी। उन्होंने कहा कि पंजाब की कैप्टेन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार अपने चुनावी वायदे पूरे करने में नाकाम रही है। पहले नारा था कि चाहुंदा है पंजाब कैप्टेन की सरकार और अब नारा है कि चाहुंदा है पंजाब जाए कैप्टेन की सरकार।


मान ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि नदी जल पर सिर्फ पंजाब का हक है। इस विवाद के हल में कांग्रेस और भाजपा दोनों ही दलों ने वोटों के लालच में रूचि नहीं ली है। ऐसा वक्त आया था जबकि केन्द्र और पंजाब व हरियाणा में एक साथ दोनों दलों की सरकारें बारी-बारी से रही है लेकिन जानबूझकर समाधान टाला गया। उन्होंने कहा कि अब सुप्रीम कोर्ट में पंजाब का पक्ष रखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि पंजाब में सबसे बडी समस्या बेरोजगारी है और इस कारण ही नशे की समस्या फैली है।


गुरदासपुर जिले के गांव में आठ साल की बच्ची के साथ बलात्कार के बाद हत्या कर दिए जाने की वारदात पर मान ने कहा कि कानून तो बना हुआ है लेकिन अपराधी बचने में सफल हो जाते है। उन्होंने कहा कि देशभर में अनगिनत बच्चियों के साथ इस तरह की वारदातें हो रही है। अपराधी को नसीहती सजा मिलना चाहिए।


बता दें कि इन दिनों पंजाब आम आदमी पार्टी में कलह चल रही है। पंजाब के पूर्व नेता प्रतिपक्ष सुखपाल सिंह खैहरा के पदच्यूत होने के बाद दिरबा के पार्टी विधायक हरपाल सिंह चीमा को इस पद पर नियुक्त करने के बाद से यह विवाद उपजा है। खैहरा के समर्थन में पार्टी के कई विधायक व अन्य नेता उतर आए हैं। खैहरा ने अपने समर्थकों के साथ मिलकर प्रदेश नेतृत्व के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। इस बाबत खैहरा भटिेंडा में रैली भी कर चुके है। अब इसके बाद उन्होंने आगामी अक्टूबर मह में तलवण्डी साबो से पंजाब के मुद्यों पर जनमार्च करने का ऐलान कर दिया है।

यह भी पढे: अलोकतांत्रिक तरीके से नेता प्रतिपक्ष के पद से हटाना ही मुद्दा बना!...अक्टूबर में यहां से जनमार्च शुरू करेंगे खैहरा

 

Ad Block is Banned