Coronavirus की रोकथाम के लिए जनता कर्फ्यू के बाद समूचे पंजाब में 31 मार्च तक Lockdown

सोमवार सुबह 6 बजे से 31 मार्च तक लागू\

3.2 लाख निर्माण कामगारों को 3-3 हजार रुपये

मास्क और हैंड सेनेटाइजर जरूरी वस्तुएँ घोषित

सरकार ने आवश्यक वस्तुओं की सूची जारी की

By: Bhanu Pratap

Published: 22 Mar 2020, 12:40 PM IST

चंडीगढ़। कोरोनावायरस coronavirus की रोकथाम के लिए समूचे पंजाब Punjab को 31 मार्च, 2020 तक के लिए लॉकडाउन Lockdown कर दिया गया है। सोमवार सुबह छह बजे से लॉकडाउन शुरू हो जाएगा। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह Captain amarinder singh के कार्यालय से इस तरह के निर्देश सभी जिला उपायुक्तों को जारी कर दिए गए हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी Narendra Modi के आह्वान पर जनता कर्फ्यू Public curfew में मिले जनता की सहभागिता के बाद यह फैसला लिया गया है। यह भी बताना जरूरी है कि पंजाब में कोरोनावायरस के अब तक 20 मामले आ चुके हैं। सरकार ने शनिवार को जारी गए अपने बुलेटिन में 13 मामले स्वीकार किए हैं। मुख्य सचिव करण अवतार सिंह ने जिला नियंत्रण कक्षों को मजबूत करने पर जोर दिया ताकि यहां आठ घंटे की दो शिफ्ट में रोज सुबह 6 बजे से रात 10 बजे तक काम किया जा सके।

Public curfew in Jalandhar

उपायुक्तों को निर्देश

मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा जारी आदेश में कहा गया है- लॉकडाउन के दौरान आवश्यक सेवाएं चलती रहेंगी। सभी जिला उपायुक्‍तों को कहा गया है कि वे आवश्यक सेवाओं की सूची जनता के लिए तुरंत जारी कर दें ताकि लोग दुविधा में ना रहे। असल में बार-बार अपील के बावजूद लोग अपने घरों से बाहर निकल रहे हैं। जिन लोगों को करोना के लक्षण मिले हैं वह अस्पतालों और आइसोलेशन सेंटर में रुक नहीं रहे हैं। पुलिस व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ जाने को तैयार नहीं होते हैं। इसको देखते हुए सरकार ने अब सख्त कदम उठाते हुए पूरे राज्य में लॉक डाउन करने के आदेश दिए हैं ताकि कोरोना वायरस ज्यादा न फैल सके।

Coronavirus की रोकथाम के लिए जनता कर्फ्यू के बाद समूचे पंजाब में Lockdown

उपायुक्तों ने की थी घोषणा

इससे पहले जालंधर और संगरूर के जिला उपायुक्‍तों ने अपने जिलों में 25 मार्च तक लॉकडाउन की घोषणा की थी। इसके अलावा पटियाला में भी तीन दिन के जनता कर्फ्यू का ऐलान किया गया था। कपूरथला, नवांशहर और होशियारपुर में भी लॉक डाउन की घोषणा की गई थी। इसके बाद संभावना जताई जा रही थी कि कैप्‍टन अमरिंदर सिंह सरकार पूरे राज्‍य में 31 मार्च तक लॉक डाउनलोड का ऐलान कर सकती है।

Public curfew in bathinda

निर्माण कामगारों के लिए तीन-तीन हजार रुपये

पंजाब में निर्माण कामगारों की मुश्किलें दूर करने के यत्न के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कोविड-19 के कारण रोजग़ार के मौके घटने के कारण सभी रजिस्टर्ड निर्माण कामगारों के लिए तीन-तीन हज़ार रुपए की तत्काल राहत देने का ऐलान किया है। 3.2 लाख निर्माण कामगारों के बैंक खातों में डाल दिए जाएंगे। इस उद्देश्य के लिए 96 करोड़ रुपए जारी किये जाएंगे। मुख्यमंत्री ने श्रम विभाग को हुक्म दिए कि सोमवार तक लाभपात्रीयों के बैंक खातों में यह राशि पड़ जानी चाहिए। कैप्टन अमरिन्दर सिंह पहले ही संकट की इस घड़ी में समाज के ऐसे वर्गों की सहायता करने के लिए अपनी सरकार की वचनबद्धता को दोहरा चुके हैं। इसी दौरान मुख्यमंत्री ने निर्माण कामगारों को भी स्वास्थ्य विभाग की तरफ से जारी दिशा-निर्देशों का पूरी तरह पालन करने और सभी एहतियाती कदम उठाने की अपील की। उन्होंने इन कामगारों को भरोसा दिलाया कि इस मुश्किल की घड़ी में सरकार उनकी और उनके परिवारों की हर संभव मदद करेगी।

जनता कर्फ्यू

मास्क और हैंड सैनेटाइजर जरूरी वस्तुएँ घोषित

नोवल कोरोनावायरस (कोविड -19) फैलने के मद्देनजऱ पंजाब सरकार के खाद्य, सिविल सप्लाईज और उपभोक्ता मामले विभाग ने शनिवार को मास्क (2 प्लाई और 3 प्लाई सर्जीकल मास्क, एन 95 मास्क) और हैंड सैनेटाईजर्ज को ज़रूरी वस्तुओं की सूची में शामिल किया है, जिसके अंतर्गत दुकानदारों द्वारा उपभोक्ताओं से इनकी निर्धारित कीमत ही वसूली जा सकेगी। खाद्य, सिविल सप्लाईज और उपभोक्ता मामलों के मंत्री श्री भारत भूषण आशु ने कहा कि यह फ़ैसला कोविड-19 के फैलने के दौरान दुकानदारों, स्टॉकिस्टों, डीलरों द्वारा मास्क और हैंड सैनेटाईजर्ज और अन्य ऐसी वस्तुओं की जमाखोरी किये जाने की रिपोर्टें आने का गंभीर नोटिस लेते हुए लिया गया है, क्योंकि ऐसा होने से इन वस्तुओं की कीमतें आसमान छू रही थीं।

कोरोना संदिग्ध अस्पताल से भागा

आवश्यक वस्तुओं की सूची

इस दौरान पंजाब सरकार ने राज्य में लागू आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 के प्रावधानों के अनुसार आवश्यक वस्तुओं की एक सूची जारी की है जिसमें पांच आइटम समूह खाद्य अनाज, खाद्य तेल, सब्जियां और अन्य वस्तुएं शामिल हैं। इसके अलावा अन्य शामिल की गई वस्तुओं में मास्क और हैंड सैनिटाइटर हैं। इनके अलावा, कोविड-19 महामारी के मद्देनजर इन सेवाओं को आवश्यक सेवाओं के रूप में घोषित किया गया है जिसमें किराने का सामान, पेय पदार्थ, ताजे फल और सब्जियां, पेयजल, चारा, प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों की आपूर्ति करने वाली सभी खाद्य प्रसंस्करण इकाइयां, नामित पेट्रोल / डीजल / सीएनजी पंप / डिस्पेंसिंग यूनिट्स में पेट्रोल, डीजल की आपूर्ति, राइस शेलर्स, दुग्ध संयंत्र, डेयरी इकाइयाँ, चारा बनाने वाली इकाइयाँ और मवेशी क्षेत्र, एलपीजी (घरेलू और व्यावसायिक) की आपूर्ति, दवाओं और मेडिकल स्टोरों से अन्य दवाइयों की आपूर्ति, स्वास्थ्य सेवाएं, मैडिकल और हैल्थ उपकरणों का निर्माण, दूरसंचार ऑपरेटरों और संचार सेवाएं सुनिश्वित करने हेतु उनके द्वारा नियुक्त एजेंसियों, बीमा कंपनियों, बैंकों और एटीएम, डाकघरों, गोदामों में प्राप्ति के लिए गेहूं और चावल की लोडिंग और अनलोडिंग और/या केंद्रीय पूल / डीसीपी / ओएमएसएस के लिए प्रेषण, खाद्यान्नों की खरीद और भंडारण के लिए आवश्यक वस्तुओं / आवश्यक सेवा और स्टॉक लेखों का परिवहन, कंबानई मशीनों का संचालन, फसल कटाई का काम-काज, कृषि उपकरणों को बनाने वाली इकाइयां और कोई भी अन्य वस्तु जिसे जिला मजिस्ट्रेट / जिला आयुक्त द्वारा आवश्यक माना जाता है, शामिल हैं।

Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned