मुंबई से चंडीगढ़ पहुंची कंगना रनौत और कहा- जान बची तो लाखों पाए

अपने घर हिमाचल प्रदेश जा रही हैं। सिक्योरिटी नाम मात्र की, लोग बधाई दे रहे

By: Bhanu Pratap

Updated: 14 Sep 2020, 05:18 PM IST

चंडीगढ़। शिवसेना से टकराव के बीच मुंबई में पांच दिन बिताने के बाद कंगना रनौत आज अपने गृह प्रदेश हिमाचल लौट आई। उनके साथ उनकी बहन रंगोली भी हैं। इस बीच, कंगना ने ट्विटर के जरिए शिवसेना व महाराष्ट्र सरकार में उसकी सहयोगी कांग्रेस पर अपना हमला जारी रखा। उन्होंने चंडीगढ़ पहुंचते ही राहत की सांस लेने जैसे अंदाज में मुंबई के सुरक्षा हालात पर फिर सवाल खड़़ा किया और कहा कि अब मुंबई में पहले जैसी सुरक्षा नहीं रही। उन्होंने इसकी वजह शिवसेना के सोनिया सेना हो जाने को बताया।

क्या कहा है ट्वीट में

चंडीगढ़ मे उतरते ही मेरी सिक्यरिटी नाम मात्र रह गयी है, लोग ख़ुशी से बधाई दे रही हैं, लगता है इस बार मैं बच गयी, एक दिन था जब मुंबई में माँ के आँचल की शीतलता महसूस होती थी आज वो दिन है जब जान बची तो लाखों पाए, शिव सेना से सोनिया सेना होते ही मुंबई में आतंकी प्रशासन का बोल बाला।

9 सितम्बर को तोड़ा था कंगना का दफ्तर

गौरतलब है कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत को लेकर शुरू से मुखर रहीं कंगना रनौत पिछले दिनों मुंबई की तुलना pok से करके शिवसेना के निशाने पर आ गई थीं। शिवसेना नेता संजय राउत ने जब उन पर अशोभनीय टिप्पणी कर दी तो उन्होंने भी शिवसेना व राउत के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। धमकियों व चुनौतियों के बीच कंगना 9 सितम्बर को हिमाचल स्थित अपने घर से मुंबई पहुंचीं लेकिन इससे पहले बीएमसी ने मुंबई स्थित उनके दफ्तर में अवैध निर्माण होने का आरोप लगाते हुए वहां जेसीबी व हथौड़े चलवा दिए। उनकी याचिका पर हाईकोर्ट ने इस तोड़फोड़ पर रोक लगाई। इसके बाद से वह लगातार ट्वीटर के जरिए शिवसेना व महाराष्ट्र सरकार में भागीदार कांग्रेस पर तीखे हमले कर रही हैं।

राज्यपाल से भेंट की थी

इस बीच, शिवसेना से विवाद व धमकियों के बाद कंगना के परिवार की अपील पर हिमाचल प्रदेश की भाजपा सरकार ने उन्हें व उनके परिवार को सुरक्षा मुहैया कराने की घोषणा की तो अगले दिन गृह मंत्रालय ने भी वाई श्रेणी की सुरक्षा के लिए मंजूरी दे दी थी। कंगना इसी सुरक्षा घेरे में मुंबई गई थीं तथा अब वह इसी सुरक्षा घेरे में रहेंगी। इस सबके बीच, रविवार को उन्होंने महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्योरी से मुलाकात कर उनके सामने अपना पक्ष रखा था।

Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned