मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह के साथ विधायकों की बैठक में कुलवीर जीरा को शामिल नहीं किया

पुलिस महानिरीक्षक मुखविंदर सिंह पर ड्रग तस्करों को पनाह देने का आरोप लगाने के बाद जीरा को किया गया था कांग्रेस से निलंबित...

By: Prateek

Published: 19 Jan 2019, 06:31 PM IST

(चंडीगढ): पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह की प्रदेश के मालवा क्षेत्र के विधायकों के साथ यहां शनिवार को आयोजित दूसरी बैठक में विधायक कुलवीर जीरा को शामिल नहीं किया गया। कुलवीर जीरा ने हाल में पुलिस महानिरीक्षक मुखविंदर सिंह सीना द्वारा ड्रग तस्करों को पनाह देने का आरोप सार्वजनिक मंच पर लगाया था।


किया गया था निलंबित

इसके लिए जीरा को अनुशासनहीनता बरतने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया गया था। एक दिन पहले ही उनका निलंबन रद्य करने का समाचार आया था लेकिन जीरा को बैठक में शामिल होने से रोकते हुए बताया गया कि उनकी बहाली का फैसला अभी पार्टी आला कमान के पास लम्बित है।

 

पंजाब भवन में मिला प्रवेश लेकिन मीटिंग से दूरी

जीरा को शनिवार को विधायकों के साथ मुख्यमंत्री की बैठक के स्थान पंजाब भवन में तो प्रवेश करने दिया गया लेकिन बैठक में शामिल नहीं होने दिया गया। जीरा को बताया गया कि उनकी पार्टी की सदस्यता बहाली का फैसला अभी आला कमान के पास लम्बित है और तब तक वे पार्टी की बैठकों में शामिल नहीं हो सकते। मालवा क्षेत्र के कांग्रेस विधायकों की मुख्यमंत्री के साथ पहली बैठक शुक्रवार को आयोजित की गई थी। मालवा क्षेत्र के ही विधायकों की दूसरी बैठक शनिवार को आयोजित की गई।

सफाई देने पर हुए बहाल

जीरा ने शुक्रवार को पंजाब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड,पंजाब के मामलों की पार्टी प्रभारी आशा कुमारी व मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह से मुलाकात कर अपनी सफाई दे थी कि उन्होंने पार्टी या सरकार के खिलाफ कुछ नहीं कहा बल्कि अपने क्षेत्र के पुलिस अफसरों के बारे में कमियां बताई थीं। इसके बाद यह समाचार आम हो गया था कि कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से जीरा का निलंबन रद्य कर दिया गया है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned