विधायक फूलका की इस्तीफे की अपील को खारिज करते हुए बोले सिद्धू-सरकार ने किया है पर्दाफाश,जरूर होगी कार्रवाई

विधायक फूलका की इस्तीफे की अपील को खारिज करते हुए बोले सिद्धू-सरकार ने किया है पर्दाफाश,जरूर होगी कार्रवाई

Prateek Saini | Publish: Sep, 02 2018 02:17:54 PM (IST) Chandigarh, Punjab, India

सिद्धू ने कहा कि कांग्रेस को जनादेश मिला है तो इस्तीफा क्यों दिया जाए...

(चंडीगढ): पंजाब के शहरी निकाय मंत्री नवजोत सिद्धू ने शनिवार को आम आदमी पार्टी के नेता और विधायक एचएस फूलका की वह अपील खारिज कर दी जिसमें उन्होंने आगामी 15 सितम्बर तक गुरूग्रंथ साहिब की बेअदबी के बाद सिखों पर पुलिस फायरिंग के मामलों में पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल,पूर्व पुलिस महानिदेशक सुमेध सिंह सैनी व डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के खिलाफ मुकदमा दर्ज न किए जाने पर कांग्रेस नेताओं को विधानसभा से इस्तीफा देने को कहा है। सिद्धू ने कहा कि कांग्रेस को जनादेश मिला है तो इस्तीफा क्यों दिया जाए।

 

जघन्य अपराध,दोषियों को मिलनी चाहिए सजा

यहां पत्रकारों से बातचीत में सिद्धू ने कहा कि फूलका ने अपनी पार्टी का रूख रखा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार ने रणजीत सिंह कमीशन की रिपोर्ट के जरिए सारी साजिश का खुलासा किया है और अब एसआईटी का गठन कर कार्रवाई भी की जा रही है। अपराध जघन्य है और इस पर सजा मिलना ही चाहिए। अकाली नेताओं की ओर इशारा करते हुए सिद्धू ने कहा कि ये लोग वोटों के लिए कुछ भी करने को तैयार है। इन्होंने जो बीज बोए थे अब उसके फल निकलकर आ रहे है।

 

अकाली दल में परिवारवाद सिद्धू

सिद्धू ने कहा कि आज अकाली दल द्वारा प्रदेश में किए गए प्रदर्शनों में सुखवीर बादल,विक्रम सिंह मजीठिया और हरशिमरत कौर बादल नहीं थे। ये सभी डर गए है। उन्होंने कहा कि जब अकाली नेताओं को टिकट बांटने होते है या ओहदों का बंटवारा किया जाता है तब सिर्फ परिवार याद आता है और अब टकसाली अकाली याद आ रहे है।


राज्य सरकार ने सदन में रखी रिपोर्ट

बता दें कि पंजाब की कांग्रेस सरकार की ओर से विधानसभा के मॉनसून सत्र में सिखों पर हुए हमले की रणजीत सिंह कमीशन रिपोर्ट में सबके सामने रखा। इस रिपोर्ट में अकाली दल के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल को पूरे प्रकरण की जानकारी होने की बात कही गई थी जिसके बाद से राज्य की राजनीति में हडकंप मच गया था।

Ad Block is Banned