तमिलनाडु: पीएम किसान योजना घोटाले में 105 करोड़ की वसूली हुई, 100 अधिकारी बर्खास्त

- सभी जिलों में जांच जारी

By: PURUSHOTTAM REDDY

Updated: 16 Oct 2020, 06:01 PM IST

चेन्नई.

तमिलनाडु सरकार ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (PM Kisan Samman Nidhi Yojana 2020) में 110 करोड़ रुपए से अधिक के घोटाले (PM Kisan Scheme Scam) का पता लगाया है, मामले की जांच सीबी-सीआइडी (CB-CID) को सौंपा गया। सीबी-सीआइडी ने पीएम किसान योजना घोटाला (PM Kisan Scheme Scam) मामले में जांच की जानकारी देते हुए बताया कि अवैध तरीके से से निकाले गए 110 करोड़ में से 105 करोड़ रुपए की वसूली की गई है, जिसमें से अधिकतर सीधे बैंक खातों से निकले हैं। शेष राशि भी जल्द वापस आ जाएगी। अधिकारियों ने बताया कि राज्य के सभी जिलों में जांच चल रही है।

अधिकारियों ने बताया कि घोटाले में शामिल 101 एजेंटों या दलालों को गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि कृषि योजनाओं से जुड़े 100 अधिकारियों को बर्खास्त कर दिया गया है। कई अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है।

तमिलनाडु में करोड़ों का घोटाला: 5 लाख गैर-किसानों में बांट दिए 110 करोड़ रुपए

निलंबित अधिकारियों में कृषि विभाग के सहायक निदेशक शामिल हैं। शुरुआती अनुमानों से पता चला कि इतनी राशि से लगभग 5.5 लाख लोग लाभान्वित हो सकते थे। बताया जा रहा है कि कोविड-19 लॉकडाउन शुरू होने के बाद निकासी मानदंडों में दी गई ढील का फायदा उठाकर ये फर्जीवाड़ा किया गया है।

ज्यादातर पैसे कल्लाकुरिची, विल्लुपुरम, कड्लूर, तिरुवण्णामलै, वेलूर, रानीपेट, सेलम, धर्मपुरी, कृष्णगिरि और चेंगलपेट जिले में निकाले गए हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, जो लोग अवैध रूप से लाभार्थियों की सूची में जोड़े गए थे, वे कथित रूप से इस धोखाधड़ी से अनजान थे। उन्होंने बताया कि कुछ लोग खुद को अधिकारी बताते हुए उनसे उनकी पूरी डिटेल ले गए और कहा कि सरकार इसके जरिए उन्हें ‘कोरोना कैश’ देगी।

PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned