समुद्र में तीन दिन तक फंसे ११ मछुआरे गुजरात पहुंचे

कन्याकुमारी जिले के पोलीयूर मिडालम के ११ मछुआरे जो शनिवार को मुम्बई तट के अरब सागर में फंस गए थे, मंगलवार रात गुजरात बंदरगाह पहुंच गए।

कन्याकुमारी. जिले के पोलीयूर मिडालम के ११ मछुआरे जो शनिवार को मुम्बई तट के अरब सागर में फंस गए थे, मंगलवार रात गुजरात बंदरगाह पहुंच गए। थुथुर मछुआरा संघ के अध्यक्ष जोस बिलबिन ने बताया कि पोलियूर मिडालम और तोप्पूर गांव के ११ मछुआरे ९ जनवरी को कोचि से रवाना हुए थे। इसी बीच शनिवार को उनकी नाव का इंजन फेल हो गया और वे वहीं फंस गए। कुछ समय बाद नौसेना के एक विमान ने मछुआरों को देखा और इंडियन कोस्ट गार्ड को सूचित किया। जिसके बाद दमन से नाव के पास एक जहाज भेजा गया, जिसमें मछुआरों को खाद्य सामग्री भेजी गई। मछुआरों को समुद्र से बाहर निकालने का प्रयास किया गया लेकिन नाव को बांधने में मुश्किलें आने से मछुआरे नाव के पास ही रुक गए। इसी बीच उसी मार्ग से गुजर रही थूथूर की दूसरी नाव ने सोमवार रात को खराब इंजन की मरम्मत के लिए कुछ उपकरण दिए। जिसके बाद मछुआरों ने नाव की मरम्मत की और गुजरात पहुंच गए। यहां पहुंचने के बाद बीमार होने की वजह से दो मछुआरों को अस्पताल में भर्ती कराया गया।

-------------------------------------------------

जल्लीकट्टू के दौरान गिरे व्यक्ति की इलाज के दौरान मौत
मदुरै. अलंगनल्लूर में गत १७ जनवरी को जल्लीकट्टू के दौरान गिर कर घायल हुए व्यक्ति की मंगलवार को अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। मृतक की पहचान कुरवानकुमल निवासी डविडऩ (५५) के तौर पर हुई है। अधिकारियों के अनुसार जल्लीकट्टू देखते वक्त अचानक गिरने से डविडऩ के सीने में चोट लग गई थी। उसे सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां कुछ दिनों से उसे वेंटिलेटर पर रखा गया था। मंगलवार रात उसकी मौत हो गई। सूत्रों के अनुसार अवेनियापुरम, पालामेडु और अलंगनल्लूर में जल्लीकट्टू के दौरान घायल हुए ३२ से अधिक लोगों में कुछ लोगों को छुट्टी मिल गई और कुछ लोगों का अभी भी इलाज चल रहा है।

Ritesh Ranjan Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned