तमिलनाडु: 22 साल की छात्रा बनी सबसे कम उम्र की जिला पंचायत अध्यक्ष

इस जीत से खुश हूं और मैं विनम्र हूं कि लोगों ने मुझ पर विश्वास किया है, जो चुनाव लडऩे वाले पांच उम्मीदवारों में सबसे कम उम्र के हैं।

By: PURUSHOTTAM REDDY

Published: 13 Oct 2021, 07:27 PM IST

तेनकाशी.

22 वर्षीया सरूकला, नवगठित तेनकासी जिले में महिलाओं के लिए आरक्षित वेंकदमपट्टी पंचायत से निर्वाचित होने के बाद तमिलनाडु की सबसे कम उम्र की पंचायत अध्यक्षों में से एक हैं। कोयम्बत्तूर में हिंदुस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग में मास्टर्स कर रही सरूकला ने कहा कि मैं इस जीत से खुश हूं और मैं विनम्र हूं कि लोगों ने मुझ पर विश्वास किया है, जो चुनाव लडऩे वाले पांच उम्मीदवारों में सबसे कम उम्र के हैं।

नौ नवगठित जिलों में दो चरणों में ग्रामीण स्थानीय निकाय चुनाव होने के बाद उन्हें चुना गया था, जो प्रशासनिक सुविधा और जनता की मांग के बाद बनाए गए थे। सरूकला ने कहा कि वह चाहती हैं कि अधिक से अधिक शिक्षित युवा स्थानीय निकाय स्तर पर राजनीति में प्रवेश करें। उनका मानना है कि शिक्षित युवा दूसरों की तुलना में अधिक से अधिक बेहतर कर सकते हैं।

युवा नेता के पिता रवि सुब्रमण्यम (पेशे से किसान) पिछली बार पंचायत चुनाव में असफल रहे थे। यह पूछे जाने पर कि क्या वह उन्हें या परिवार के किसी पुरुष सदस्य को नियंत्रण करने देंगी, उन्होंने जवाब दिया, "नहीं, मैं लोगों के परामर्श से स्वतंत्र रूप से कार्य करूंगी। यह पूछे जाने पर कि क्या वह भविष्य में विधानसभा या संसद में जाना चाहेंगी, सरूलता ने कहा, "मैंने इस बारे में कुछ नहीं सोचा है।

ग्रामीण स्थानीय निकाय चुनावों की मतगणना से पता चलता है कि सत्तारूढ़ डीएमके चुनावों में जीत हासिल करने के लिए तैयार है। डीएमके ने 153 जिला पंचायत वार्ड सदस्य सीटों में से 45 पर जीत हासिल की है और बाकी अधिकांश सीटों पर आगे चल रही है। इसने 1,421 पंचायत यूनियन वार्ड सदस्य सीटों में से 645 पर जीत हासिल की है और बाकी अधिकांश सीटों पर आगे चल रही है।

PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned