तमिलनाडु में कोरोना से संक्रमित 283 लोग स्वस्थ्य होकर घर लौटे

283 Corona patients discharged across Tamilnadu: तमिलनाडु में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है, जिसके चलते तमिलनाडु के 3७ में से 22 जिलों को कोरोना वायरस हॉटस्पॉट घोषित किया गया है

By: PURUSHOTTAM REDDY

Published: 18 Apr 2020, 03:23 PM IST

चेन्नई.

तमिलनाडु में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है, जिसके चलते तमिलनाडु के 3७ में से 22 जिलों को कोरोना वायरस हॉटस्पॉट घोषित किया गया है जो कि देश के किसी भी राज्य की तुलना में सबसे ज्यादा है। लेकिन इन बढ़ते मामलों के बीच राहत की खबर है कि पिछले चार से पांच दिनों से लगातार कोरोना मरीज स्वस्थ होकर घर लौट रहे है। शुक्रवार को एक ही दिन में १०३ लोगों को कोरोना से स्वस्थ्य होने के बाद घर भेजा गया। अबतक राज्य में कुल २८३ लोग कोरोना को मात देकर घर लौट गए।

तमिलनाडु इस महामारी के खिलाफ जंग लड़ रहा है। तमिलनाडु संक्रमण के केसों के मामले में महाराष्ट्र के बाद दूसरे नंबर पर था। लेकिन अब यहां मरीजों की संख्या कम होती जा रही है। लोग भी ठीक हो रहे हैं। राज्य में कुछ ऐसे भी जिले हैं, जिन्होंने अभी तक स्थिति पर ना सिर्फ काबू पाते दिख रहे हैं, बल्कि उसे मात देने की भी पहल कर दी है। इन जिलों ने अभी तक जागरुकता, कानूनी सख्ती और त्वरित निर्णयों से कोरोना पर काफी तक काबू पा लिया है। ये जिले मदुरै, तिरुचि, ईरोड और कोयम्बत्तूर हैं।

हॉटस्पॉट चेन्नई को भी मिली थोड़ी राहत
चेन्नई में कोरोना का पहला मामला ७ मार्च को सामने आया था। मेडिकल और आईटी हब होने के चलते यहां बड़ी संख्या में देशी- विदेशी लोग आते-जाते और रहते हैं। इसलिए चेन्नई में निरंतर कोरोना संक्रमण के मामले बढ़े लेकिन इन सब के बीच खुशी की खबर यह है कि शुक्रवार को माउंट रोड स्थित ओमानदूरार मल्टी स्पेशलटी अस्पताल से ३० कोरोना मरीजो को स्वस्थ्य होने के बाद घर भेज दिया गया। यहां अब तक 2२८ मामले सामने आए हैं, वहीं अब तक ७ लोगों की मौत हुई है। ५० लोग ठीक हो चुके हैं।

कैसे संभव हुआ
नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग के कर्मी चेन्नई में डोर-टू-डोर सर्वे किया और यह सिलसिला तीन महीने तक चलेगा। नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग के कर्मी पूरी तरह से मुस्तैद थे। दोपहर 2 बजे तक किराना, दूध सब्जी मिल रही थी। लेकिन यहां के लोगों ने कोरोना को गंभीरता से लिया। सोशल डिस्टेंसिंग और क्वारंटाइन का पालन किया। बिना किट पहने बाहर नहीं निकले।

तमिलनाडु सरकार भी सक्रिय
तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पलनीस्वामी आए दिन राज्य के जिला कलक्टर और पुलिस अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए कोरोना की परिस्थितियों का जायजा लेते और अधिकारियों को कोरोना से निपटने से संबंधित दिशा-निर्देश जारी करते। राज्य में स्वास्थ्य केन्द्र अधिकारियों को हर संदिग्ध या ट्रैवल हिस्ट्री वाले को आइसोलेशन में रखने के निर्देश दिए गए। होम क्वारंटाइन की अवधि को बढ़ाकर 28 दिन कर दिया गया। कोरोना से संबंधित टेस्ट भी अधिक हुए।

कोरोना डेडिकेट अस्पताल
पहला राज्य, जिसमें कोरोना के लिए अस्पताल बनाया
तमिलनाडु भारत का ऐसा राज्य है, जहां कोरोना से निपटने के मल्टी स्पेशलटी अस्पताल को कोरोना डेडिकेटेट अस्पताल में तब्दील किया। इस अस्पताल में ३०० बेड की क्षमता है। यहां हर जिले में पहले से ही कोरोना से निपटने के लिए सरकार ने अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड बनाए। इन अस्पतालों में मरीजों का इलाज भी शुरू हो गया। जमात से आने वाले लोगों को सामने से आकर जांच कराने का आग्रह किया गया जिससे कुछ हदतक कोरोना के मामलों में कर्मी आई। यहां विदेश से आने वाले लोगों के रजिस्ट्रेशन के लिए पोर्टल बनाया गया। सभी को होम क्वरंटाइन में रखा गया।
---
राज्यभर में अबतक कोरोना से ठीक होकर घर लौटे मरीजों के आंकड़ो पर एक नजर:


राजीव गांधी (एमसीएच)।- चेन्नई- -१७
स्टेनली (एमसीएच) चेन्नई -५
कीलपॉक (एमसीएच) चेन्नई -१३
ओमानदूरार (एमसीएच) चेन्नई - ३०
तिरुवण्णामलै (एमसीएच) तिरुवणामलै -१
सेलम मोहन कुमारमंगलम सेलम - ७
आइआरटी पेरुंदुरै ईरोड १३
कोयम्बत्तूर ईएसआई कोयम्बत्तूर- २७
तिरुचि केएपीवी तिरुचि ३३
तजावुर (एमसीएच) तंजावुर- १
तिरुवारुर (एमसीएच) तिरुवारुर - १४
विल्लुपुरम (एमसीएच) विल्लुपुरम - १६
करूर (एमसीएच) करूर - ५१
मदुरै (एमसीएच) मदुरै - १४
शिवगंगा (एमसीएच) शिवगंगा- ६
तिरुनेलवेली (एमसीएच) तिरुनेलवेली - १९
तुत्तुकुडी (एमसीएच) तुत्तुकुडी- २
डीएसम हॉस्पिटल दिंडीगुल २
निजी हॉस्पिटल राज्यभर १२

coronavirus
PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned