इंसानियत शर्मसार: 7 साल की बच्ची का बेरहमी से बलात्कार व हत्या, आरोपी गिरफ्तार

सोशल मीडिया पर न्याय की मांग

By: PURUSHOTTAM REDDY

Published: 02 Jul 2020, 04:36 PM IST

पुदुकोट्टै.

कोरोना के संकटकाल के बीच तमिलनाडु के पुदुकोट्टै जिले में मानवता को शर्मसार करने वाली एक दर्दनाक घटना सामने आई है। पुदुकोट्टै जिले में सात साल की दलित बच्ची के साथ बलात्कार कर बर्बरतापूर्वक हत्या की घटना को अंजाम दिया गया है। बताया जा रहा है कि बच्ची 30 जून से घर से लापता थी। बुधवार शाम को उसके गांव के बाहरी इलाके में झाडियों के बीच बच्ची का शव मिला। बच्ची के चेहरे और शरीर पर चोट के निशान है।

पडोसी युवक गिरफ्तार
इस मामले में बच्ची के पडोस में रहने वाला 25 साल का युवक को गिरफ्तार किया गया है। पूछताछ में उसने कबूल किया है कि उसने बच्ची के साथ बलात्कार कर उसकी हत्या कर दी। वह दूसरी जाति का है। युवक के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया है। शव को पुदुकोट्टै मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले जाया गया। पुलिस को पोस्ट मार्टम रिपोर्ट का इंतजार है। पोस्ट मार्टम रिपोर्ट के बाद उसपर पॉक्सो एक्ट की धारा भी लगाई जाएंगी।

अचानक गायब हुई बच्ची
पुलिस में दर्ज शिकायत के अनुसार 30 जून को 4 बजे बच्ची अपने घर के बाहर खेल रही थी। उसके बाद वह अचानक गायब हो गई। अभिभावकों ने उसकी तलाश की लेकिन कहीं पता नहीं लग सका। बच्ची के पिता ने शाम 7 बजे गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस ने भी उसकी तलाशी शुरू की। एक जुलाई को शाम को गांव के बाहरी क्षेत्र झाडियों में बच्ची का शव मिला। उसके शरीर पर कपड़े नहीं थे और चेहरे पर चोट के निशान थे। उसके चेहरे के चोट को देखकर लगता है लकड़ी से वार किया गया है। पोस्ट मार्टम रिपोर्ट के बाद ही हत्या के कारणों का पता लग पाएगा।

सोशल मीडिया पर न्याय की मांग
घटना के बाद लोग सोशल मीडिया पर बच्ची के लिए न्याय की मांग कर रहे है। वहीं, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर हैशटैग ट्रेंड हो रहा है। ट्विटर यूजर्स इसी हैशटैग पर अपनी अपनी प्रतिकिय्रा दे रहे है और बच्ची के लिए सोशल मीडिया पर न्याय की मांग की जा रही हैं। कह रहे है कि, मासूम के साथ की गई इस तरह की शर्मनाक हरकत को अंजाम देने वाले दरिंदों को सजा मिलनी चाहिए।

PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned