इस पार्टी में एक गुट उसके अध्यक्ष के खिलाफ!

लोकसभा सांसद ने दी हतप्रभ करने वाली प्रतिक्रिया, डीएमके में ऐसा गुट सक्रिय है जो नहीं चाहता कि स्टालिन सीएम बने। दरअसल, स्टालिन के खिलाफ डीएमके में बड़ा गुट है।

विरुदनगर. लोकसभा सांसद और कांग्रेस महासचिव माणिक ठाकुर ने डीएमके को हतप्रभ करने वाली प्रतिक्रिया दी है कि उस पार्टी में एक गुट ऐसा है जो अध्यक्ष एम. के. स्टालिन के खिलाफ है। कांग्रेस सांसद की यह प्रतिक्रिया डीएमके कोषाध्यक्ष दुरै मुरुगन की उस ललकार पर थी कि कांग्रेस चाहे तो गठबंधन तोड़ सकती है।

यहां अपने दफ्तर में गुरुवार को संवाददाताओं को संबोधित करते हुए माणिक ठाकुर ने कहा कांग्रेस को सहयोगी दलों के चयन के बारे में नसीहत देने की किसी को आवश्यकता नहीं है। अगर सहयोगी दल सही नहीं है तो कभी भी बदला जा सकता है। कांग्रेस ने कभी घटक दलों को नहीं बहकाया है। डीएमके जब कांग्रेस गठबंधन में नहीं थी तब भी सोनिया गांधी ने कनिमोझी को राज्यसभा की सदस्यता दिलाई थी।

दुरै मुरुगन पर पलटवार करते हुए उन्होंने कहा कि वे कांग्रेस के इतिहास को पढ़ें। कांग्रेस और गठबंधन धर्म के बारे में डीएमके शायद कुछ नहीं जानती है। डीएमके में ऐसा गुट सक्रिय है जो नहीं चाहता कि स्टालिन सीएम बने। दरअसल, स्टालिन के खिलाफ डीएमके में बड़ा गुट है। नई दिल्ली में कांग्रेस की बैठक के बहिष्कार को जायज बताने की डीएमके की कोशिश गलत है।

गौरतलब है कि डीएमके कोषाध्यक्ष दुरै मुरुगन ने कहा था कि कांग्रेस हमसे अलग होना चाहती है तो हो जाए। कांगे्रस गठबंधन से अलग होती है तो कोई फिक्र की बात नहीं है। खासकर उनको तो रत्तीभर फर्क नहीं पड़ेगा। गठबंधन तोडऩे से कांग्रेस को ही नुकसान है।

दुरै मुरुगन की इस प्रतिक्रिया पर कांग्रेस नेताओं ने कड़ा रोष दिखाया है और आलोचना कर रहे हैं। कांग्रेस के शिवगंगा सांसद कार्ति चिदम्बरम ने ट्वीट कर पूछा कि उनमें यह ज्ञान वेलूर लोकसभा चुनाव से पहले क्यों नहीं उदय हुआ?

सीएए पर वरिष्ठ स्तम्भकार गुरुमूर्ति के विचार पर माणिक ठाकुर बोले कि विमुद्रीकरण का विचार देने वाले गुरुमूर्ति ही थे। उनके विचार हमेशा जनता के विरोध में होते हैं। नागरिकता संशोधन कानून हरेक नागरिक के खिलाफ है। सांसद ने मुख्यमंत्री एडपाड़ी के. पलनीस्वामी को भी आड़े हाथ लिया कि वे दिल्ली सरकार से भयभीत होकर शासन चला रहे हैं। ईपीएस और ओपीएस दोनों आरएसएस के विश्वासी बने हुए हैं। जनता के भले का उनको कोई खयाल नहीं है। तमिलनाडु में सीमॉन की पार्टी एनटीके के अलावा सभी दल अकेले चुनाव लडऩे में हिचकिचाहट दिखाते हैं।

MAGAN DARMOLA
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned